बेटा बनेलक फाइटर प्लेन, बेटी बनल ओकर पायलट

शोफिया/ रोशन मैथिल

Bhawna-Kanthहैदराबाद / दरभंगा । आजुक दिन दरभंगा लेल खास अछि। बिहार क सबस पैघ दरभंगा एयरबेस चाहे जेतबा उपेक्षित रहै, मुदा दरभंगा क बेटा-बेटी देशकवायुसेना मे नित्य नव इतिहास रचबा मे लागल छथि।  भारतक पहिल लडाकू विमान तेजस क निर्माण दरभंगा क बेटा मानस बिहारी वर्मा क नेतृत्व मे भेल, त शनिदिन देश क पहिल महिला फाइटर पायलट बनि दरभंगा क बेटी भावना कंठ इतिहास रचि देलथि। सच पूछु त इ नहि केवल मिथिलानी लेल बल्कि समस्त भारतीय महिला लेल ख़ास अछि। भारतीय वायुसेना कए पहिल तीन गोट एहन महिला अफ़सर भेटल अछि जे फाइटर पायलट हेतीह। दरभंगा क बेटी फ्लाइंग कैडेट भावना कंठ क संग मोहना सिंह आ अवनी चतुर्वेदी कए हैदराबाद क समीप वायुसेना एकेडमी मे कमीशन देल गेल। एहि अवसर पर रक्षामंत्री मनोहर परिकर उपस्थित छलाह। वायुसेना प्रमुख अरुण साहा क कहब अछि जे करीब साल बाद इ पहल महिला पायलट क खेप फाइटर जेट्स उड़ेबा लेल तैनात क देल जेतीह। फिलहाल वायुसेना मे
1500 स बेसी महिला पायलट छथि, मुदा ओ सब केवल परिवहन विमान आ हेलीकॉप्टर उड़ा लैत छथि।

उल्लेखनीय अछि जे भारत सरकार अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस क मौका पर तीनू फ़ाइटर पायलट क ट्रेनिंग क एलान केने छल। इंजीनियरिंग मे ग्रेजुएट भावना अपन शुरुआती ट्रेनिंग पूरा क चुकली अछि आ आब हिनकर एक साल क एडवांस ट्रेनिंग कर्नाटक क बीदर मे होएत। भावना कहैत छथि जे हुनकर नैनपन क सपना छल जे ओ एकटा  लड़ाकू विमान क पायलट बनथि। अपन चुनौतीक संबंध मे ओ कहलीह जे महिला आ पुरुष मे कोनो अंतर नहि होइत छै। दूनू मे एक तरह क हुनर, क्षमता होइत छै, दूनू क चुनौती बराबर होइत छै। भावना कहैत छथि जे ट्रेनिंग क दौरान बहुत एहन अनुभव प्राप्त भेल जेकरा सोचि कए एखनो रोमांच स भरि जाइत छी। ट्रेनिंग काफी कठिन छल आ सच पूछु त पहिने नहि अंदाजा छल जे एतबा कठिन होएत। जखन लड़ाकू विमान उडेबाक निर्णय केने रही तखन कई गोटे कहने छलाह जे काज कठिन अछि, मुदा हम इ चुनौती स्वीकार केलहुं। लड़ाकू विमान ट्रेनिंग क संबंध मे जानकारी दैत भावना कहलीह जे हम पहिने सेहो पढ़ाई क दौरान विमान उड़ेने रही। एक स एक कलाबाजी करैत छलहुं। मुदा लड़ाकू विमान एकदम अलग होइत छै। एहि पर जखन कलाबाजी करबाक समय आयल त क्षण भरि लेल सबकुछ नव लागल। बीस हजार फुट क उंचाई स करतब करब रोमांच दैत अछि। भावना कहैत छथि जे ट्रेनिंग के दौरान ओ बहुत नीक जेका  विमान कए गेाता लगवा अपन प्रशिक्षक क मन जीत लेलथि। उल्लेखनीय अछि जे दरभंगा क घनश्यामपुर प्रखंड क बाउर गाम क भावना कंठ अपन दसवीं तक क पढ़ाई बेगुसराय क बरौनी रिफाइनरी क डीएवी स्कूल स केने छथि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments