बिहार मे बनत फिल्मसिटी

मुंबई। बिहार सरकार ई फैसला ल चुकल अछि जे प्रदेश मे जल्द स जल्द फिल्मसिटी क स्थापना कैल जाइत। काफी दिन स एहि दिशा मे विचार भ रहल छल। पूर्व सांसद आ सिने अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा आ प्रकाश झा एहि लेल पहिने मुख्यमंत्री स भेंट करि चुकल छथि। पिछला हफ्ता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार मे फिल्मसिटी क जरूरत पर नव सिरा स सोचैत ओकरा मंजूरी देबाक फैसला करि लेलैथि। एकर सूचना सूचना भोजपुरी क पॉपुलर स्टार मनोज तिवारी देलथि अछि। मनोज तिवारी क कहब अछि जे सोमवार दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हुनका स फोन पर गप क दौरान ई शुभ सूचना देलखिन। उल्लेखनीय अछि जे तीन दिन पहिने भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री क प्रतिनिधी हवाला स ई खबरि आईल छल जे मुंबई स भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री शिफ्ट भ सकैत अछि।
मनोज तिवारी स्पष्ट केलथि जे हम सब भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री कए शिफ्ट करबाक गप नहि केने रहि। हम सब ई उम्मीद जाहिर केने रहि जे बिहार आ उत्तरप्रदेश क सरकार एहि दिशा मे पहल करि सकैत अछि। अगर एहि भोजपुरी भाषी प्रदेश मे फिल्मसिटी बनत त ओकरा स भोजपुरी फिल्म क विकास होइत। मनोज तिवारी केलथि जे मुख्यमंत्री हुनका संकेत देलखिन जे बिहार मे जल्द एकटा फिल्मसिटी क स्थापना लेल जमीन देल जाइत। एकरा लेल 150 एकड़ जमीन आवंटित भ सकैत अछि। पटना शहर स चालीस किलोमीटर दूर राजगीर क रास्ता मे फिल्म इंडस्ट्री क लेल जमीन क चयन भ चुकल अछि। पटना क सूत्र बता रहल अछि जे मुख्यमंत्री फिल्मसिटी क लेल रजामंद भ चुकल छथि। कोनो वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी कए फिल्मसिटी क स्थापना आ विकास क स्वतंत्र जिम्मेदारी देल जा सकैत अछि। मंगलवार दिन,11 नवंबर कए मुख्यमंत्री एकर संबंध मे एकटा बैठक करताह, जाहिमे मनोज तिवारी समेत फिल्म और प्रशासन स संबंधित अधिकारी शामिल हेताह। मनोज तिवारी बिहार सरकार क एहि पहल पर खुश छथि आ केलथि जे बिहार मे फिल्मसिटी बनत त ओकर सुविधा क लाभ हिंदी फिल्म क निर्माता सेहो उठा सकताह। रोजगार क अवसर बढ़त। भोजपुरी फिल्म क व्यस्त निर्माता अभय सिन्हा एकरा बिहार सरकार आ नीतिश कुमार क अहम फैसला मानैत छथि। ओ केलथि जे बिहार क फिल्मसिटी आधुनिक तकनीक और सुविधा स संपन्न होइत, जाहि ठाम निर्देशक स्क्रिप्ट ले अउताह त सीधा फिल्म क प्रिंट ले कए जेताह। ओ केलथि जे एहि स भोजपुरी फिल्म क लागत सेहो कम भ जाइत। हालांकि मनोज तिवारी आ पटना क सुत्र बिहार मे फिल्मसिटी क स्थापना कए महाराष्ट्र मे चलि रहल बिहार-उत्तरप्रदेश विरोध क लहर स अलग राखि रहल छथि, मुदा राज ठाकरे क आह्वान पर चलि रहल मनसे क आक्रमक विरोध क संदर्भ मे बिहार क मुख्यमंत्री क ई निर्णय खास अर्थ रखैत अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

1 टिप्पणी

  1. बड्ड नीक प्रस्तुति। मोन प्रसन्न भए गेल।
    समाद मैथिलीक ऑनलाइन समाचारपत्रक रूप मे जे सेवा कए रहल अछि से
    लोकक मोनमे अंकित भए गेल अछि।

Comments are closed.