सुल्तान पैलेस पर भेटल एनओसी, हेरिटेज होटल लेल टेंडर शीघ्र

रामबाबू 
पटना । वीरचंद पटेल पथ स्थित सुल्तान पैलेसमे हेरिटेज होटल बनय वाला अछि से स्पष्ट भS गेल। सुल्तान पैलेस सँ बिहार राज्य पथ परिवहन निगमकें कार्यालय हटाक परिवहन विभाग पर्यटन विभागकें हेरिटेज होटल निर्माण लेल एनओसी द देलक अछि। संगहि बांकीपुर बस पड़ावकें सेहो पर्यटन विभागकें अधीन कएल जाएत। शहरकें भीतर बस स्टैंड नहि रहत। मीठापुर बस स्टैंड केर सेहो स्थानांतरणकें प्रस्ताव अछि। सभटा बस रामाचक बैरिया सँ खुजत। रामाचक बैरियामे अंतरराज्यीय बस स्टैंड केर निर्माण कार्य प्रारम्भ अछि। परिवहन विभाग केर सचिव संजय कुमार अग्रवाल बजलाह कि सुल्तान पैलेसकें हस्तांतरित करय लेल पर्यटन विभागकें एनओसी देल गेल आब निर्माण कार्य पर्यटन निगम शुरू करताह। ओतय पर्यटन विभाग केर निदेशक अशोक कुमार सेहो सुस्पष्ट कएलाह कि हेरिटेज होटल केर काज यथाशीघ्र शुरू होयत। सुल्तान पैलेस केर निर्माण पटना हाईकोर्टक पूर्व जज आऔर पटना विश्वविद्यालय केर पहिल भारतीय कुलपति सर सुल्तान अहमद द्वारा कराओल गेल छल। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रदेशक ऐतिहासिक धरोहर सभकेँ नव रूपमे सुन्दर आओर भव्य बनेबाक निर्देश देलक अछि।
हुनक सोच अछि कि प्रदेशमे हेरिटेज पर्यटन केर दृष्टिकोण सँ बेसी संभावना अछि। सुल्तान पैलेस ओकर पहिल कड़ी अछि। एकरा पांच सितारा होटलमे परिवर्तित करय केर जिम्मेदारी संयुक्त रूप सँ पर्यटन आऔर परिवहन विभागकें होयत। सुल्तान पैलेसमे वर्षों सँ बिहार राच्य पथ परिवहन निगमकें मुख्यालय अछि। एकरा 1000 करोड़ रुपयामे परिवहन निगम सँ खरीदकS पर्यटन विभागके हस्तांतरित करबाक औपचारिकता यतशीघ्र पुर कएल जाएत। अहि लेल मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह केर अध्यक्षतामे समिति केर गठन हएत। ओकर बाद निगम मुख्यालयकें फुलवारीशरीफ स्थानांतरित क देल जाएत।
सुल्तान पैलेस केर निर्माण पटना हाईकोर्टक पूर्व जज आऔर पटना विश्वविद्यालयकें पहिल भारतीय कुलपति सर सुल्तान अहमद 1922 मे निर्माण करओने छलाह। करीब 10 एकड़मे एकर निर्माण पर ओहि समयमे 22 लाख रुपैया खर्च आएल छल। विख्यात वास्तुविद अली जान एकर डिजाइन कएने अछि। निर्माणमे उज्जर संगमरमर केर बेसी उपयोग भेल अछि। मुख्य हॉल आऔर डाइनिंग रूम केर छत, देबालक नक्काशी पर 18 कैरेट सोना केर पानि देखल जा सकैत अछि। महिला सभके निवास स्थान केर सुंदर बनेबाक उद्देश्य सँ चीनी मिट्टी केर रंग-बिरंगा टुकड़ी सँ फूल-पत्ता उकेरल गेल।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments