मनुषक संपूर्ण भोजन अछि साग-भात

0
8
आधुनिक काल मे साहित्यकार लोकनि मडूआ जेकां साग कए सेहो अपना सब दिस गरीबी स जोडि देलथि मुदा साग जीवन लेल केतबा जरुरी अछि एहि पर हम सब कम विचार केलहुं । एकर पौष्टिकता पर कोनो जानकारी नहि रखलहुं । निश्चित रूप स साग सब लेल उपलब्ध एकटा वस्तु  अछि । राजा स रंक तक अपन भोजनक शुरुआत साग स करैत रहल अछि। भोज भात मे सेहो साग आ सन्ना पात पर सबस पहिने परसल जाइत अछि। साग क सामाजिक, एतिहासिक आ वैज्ञानिक तीनू पक्ष एहि आलेख मे गजानन मिश्र एक संग रखबाक प्रयास केलथि अछि। प्रस्तुत अछि गजानन मिश्र क इ शोधपरक आलेख। – समदिया 
मिथिला मे ई फकड़ा अछि- साग भात पांच हाथ । एकर निहितार्थ बहुत गंभीर छैक । ई तिरहुत के अकूत प्राकृतिक उपादान एवं एतुक्का पर्यावरण के उच्च आर्थिक तथा सामाजिक उत्पादकता के द्योतक थिक । साग जे हरियर पादपीय पदार्थ तथा भात यानि चावल । मनुष्यक स्वास्थ्य बास्ते जे प्राकृतिक रासायनिक तत्व और यौगिक पदार्थ अनिवार्य एवं प्रधान अछि, से थिक- कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटासियम, सोडियम, फोस्फोरस, आयरन, आयोडीन, फ्लोराईड, जिंक, सेलेनियम एवं विटामिन्स,खनिज और फाइबर । साग और भात एहन किछु पदार्थ अछि जाहि मे उपरोक्त सभ उपलब्ध अछि ।
तिरहुत मे दर्जनों एहन हरियर साग/पात उपयोग मे रहल अछि । अनेकों छानल/तरल रूप मे सेहो खेबाक परिपाटी रहल अछि । एहि साग/पात के उपलब्धता सहज और प्रचुर रहल छल । एकर खेती अतिशय सहज । अनेक त’ अपनेआप उपजैत छैक । ई एकटा common property छल । निम्नांकित साग जानकारी मे अबैत अछि – गेन्हारी, ठढ़ीया, बथुआ, सरिसो, रैंची, गद्पुरैन, पटुआ, खेसारी, मेथी, नोनी, केराव, चना, पालक, लौफ, करमी, सरंची, अरुआ, सुसनी, ललका, कोचला, गुलफा, पोई, मुली, मुनगा आदि । जाहि हरियर पात अथवा फुल के उपयोग बचका/तरुआ/ चक्का के रूप मे होईत अछि तकर जानकारी निम्नवत अछि- कदीमा, कद्दू, मुनगा, अगस्त, थलकमल, पिरार, कुम्हर, कचनार, गुलैंच, सनई, चकोर, तिल्कोड़, कुतरुम, पुरैन, बेली, कन्ना, सग्गा प्याज, पत्थरचुड, अरकोंच, मुली, मखान-डनटी आदि । साग ह्रदयरोग, कैंसर, डायबिटीज, हड्डी, आंखी मे विशेष रूप मे लाभदायक अछि । ई शरीर के प्रतिरोधक क्षमता बढबैत अछि ।
जहाँ तक भात के प्रसंग अछि, धान मे भूसा,ओकर भीतर वला ललाओन bran तथा सभ सँ अन्दर वला स्टार्च थिक ।भूसा मे फाइबर और लवण बहुत छैक । bran मे त’ उपरोक्त सभ रासायनिक तत्व एवं योगिक पदार्थ भरल अछि । चावल के उसिनबाक क्रम मे भूसा के तत्व चावल मे आबि जाईत छैक । तैं उसना चावल अरबा चवल सँ बेशी नीक अछि । सभ सँ ख़राब polished चावल थिक जाहि मे मात्र स्टार्च रहैत छैक; bran और भूसा वला कोनो गुणवत्ता एहि मे नहि अछि ।  जाहि brown rice के दुनिया दीवाना अछि, से वस्तुतः उसना चावल थिक ।
धान क खेती बहुत सहज छल । बाढ़ी- डुबल खेत मे मात्र धान के बीज छींट देला सँ सेहो धान उत्पादन भ जाईत छलैक । साठ दिन वला साठी धान, भदई मे गम्हरी धान, अगहनी धान और नदी के कात मे बोड़ो धान- ई चार प्रकार छल ।  चंपारण, तिरहुत और पुरनिया मे अगहनी धान के 120 प्रकार,भदई धान के 32 प्रकार तथा चौर वला लतराहा धान के 5 प्रकार छल । धान के abundant production के उल्लेख गज़ेतियेर्स मे भरल अछि ।फ्रांसिस बुकानन,  hunter,AB Macdonnel,Finnucanes आदि के रिपोर्ट तथा Village नोट्स धान के abundant production के साक्षी अछि । साग-भात के पौष्टिकता,एकर nutrition गुणवत्ता, एकर सहज और प्रचुर उपलब्धता निहितार्थ थिक ‘साग भात पांच हाथ’।

Please Enter Your Facebook App ID. Required for FB Comments. Click here for FB Comments Settings page