मिथिला मे देखायत चंद्र ग्रहण क प्रभाव

0
4
मधुबनी। अषाढ़ शुक्ल पक्ष पूर्णिमा क दिन सर्वत्र गुरू पूर्णिमा क रूपेँ मनाओल जायत तs संगहि शताब्दी क सबसँ दीर्घकालिक चंद्र ग्रहण राति मे देखल जायत। मिथिलांचल सहित संपूर्ण भारत मे शुक्र क राति लगभग चारि घंटा क पूर्ण चंद्रग्रहण देखायत। ज्योतिष, खगोलविद क अनुसारेँ एहन योग १०४ वर्ष बाद आयल अछि।शुक्रक मध्य रात्रि लगभग ११ बाजि ५५ मिनट से प्रारम्भ भय उतरार्द्ध ३ बाजि ४९ मिनट पर ग्रहण समाप्त होयत।
ज्योतिष शास्त्र क अनुसार ग्रहण जाहि राशि मे घटित होईछ ओहि राशि पर  कुप्रभाव पड़ैत छैक। ई ग्रहण उत्तर आषाढ़ आ श्रावण मास क मकर  राशि मे घटित होयत तेँ मकर राशि क व्यक्ति केँ विशेष ध्यान राखव आवश्यक। ई ग्रहण क प्रभाव मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक,मीन राशि क लेल शुभकारी अछि त वृष,मिथुन,कन्या,तुला,धनु मकर आ कुम्भ राशि क लेल कष्टकारी अछि।
ग्रहण क समय गर्भवती महिला,पशु आ नेत्र विकार पिड़ीत के ग्रहण नहि देखबाक चाही। ग्रहणक समय भोजन,शयन,गोदोहन,हलचालन, मंदिर मे पूजा पाठ वर्जित अछि। ग्रहण क कुप्रभाव से बचबा हेतु घर में जप ध्यान, दान – पुण्य विहित अछि। मान्यता अछि जे एहि समय मे कयल गेल दान अनन्त फलदाई होईछ।

Please Enter Your Facebook App ID. Required for FB Comments. Click here for FB Comments Settings page