विचार

esamaad maithili newspaper

नदीक अध्ययन लेल आखिर केकरा कहलथि नीतीश कुमार

24 साल स नहि भेल बिहार मे कोनो अध्ययन, 12 साल स राज्य में नीतीश राज नदी पर गप बहुत होइत अछि। मुख्यमंत्री स ल कए आम लोक क बीच एहि विषय पर चर्चा होइत रहल।...

जनताकें खैरात लेल खकटल खैरातीलालक खाँहिस

रामबाबू सिंह  मधेपुर ।  मोदी सरकारकें वर्तमान पारीक अंतिम आम बजट सँसदमे प्रस्तुत कएल गेल। ई बजट आम जनताकेँ कसौटी पर कसगर सिद्ध भेल आ कि नै से तँ रामहि जानथि कारण जतय बड़का बड़का अर्थशास्त्रकें...

सामाजिक कुप्रथा : सुधारक प्रयास

कन्यादान एक एहन समस्या अछि जाहिसँ ने कोनो काल आ’ ने कोनो समाज अप्रभावित रहल अछि । राजा जनककेँ सेहो कन्यादानक समस्या भेल छलनि । मुदा, पहिने वरणक सुविधा छल जे सामाजिक, राजनैतिक आ’...
esamaad maithili newspaper

मिथिला के सरिपहुं एक प्राचीन धरोहर थिक मंगरौनी

गजानन मिश्र मिथिला मे नव्य न्याय के प्रवर्तक छलाह गंगेश उपाध्याय । हिनक ग्रन्थ न्याय- तत्वचिन्तामणि के आधार पर मिथिला मे नव्य न्याय के आरम्भ भेल । पंजी अभिलेख सँ ई संकेत भेटैत अछि जे गंगेश...

दरभंगाक रंगमंचक अन्हार दुर कए रहल छथि‍ प्रकाश

जितेन्द्र नाथ झा दरभंगा क प्रोफ़सर कालोनी ...सांझ भ गेल अछि ...कने ठण्ड सेहो छै ..सडक पर लोक सबहक कम आवाजाही ..पास मे मैथिली साहित्य परिषद क प्रांगन मे दू टा नाटक क मंचन हेबाक...
esamaad maithili newspaper

विद्यापति क नजरि मे आधुनिक हेबाक व्‍यापक अर्थ

सविता खान आधुनिकता क व्‍याख्‍या, परिभाषा आओर संकल्‍पना कतहूँ से धर्मांधता आओर स्‍खलित समाजिक जीवन क कामना पर निर्भर नहि छल, जतय धर्म, मानवीयता क पाछॉं ठाढ़ भकए आदमी कए रैशनल हेबा स बाधित कए...

मिथिलाक ग्राम-ज्ञान परंपरा

सविता झा खान आय हमसभ शिक्षा क संदर्भ मे जखन चिंतनशील होएत छी, त सबसे पैघ बिंदु शिक्षा आओर शैक्षणिक संस्थान क स्वायत्तता होएत अछि । शिक्षा क जिम्मेदारी आओर गुणवत्ता क नाम पर औपनिवेशिक काल...
526फॉलोवरफॉलो करें
100सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें