फीचर

बाट अछि चुप-चुप, ईजोत अछि मध्यम

कोनो पत्रकार लेल नरसंहार क बाद ओहि इलाका क यात्रा खास होइत अछि। इ तखन आओर खास भ जाइत अछि जखन ओ इलाका ओकर अपन गाम होई। बिहार क कोरासी क आसपास क लोक...
esamaad maithili newspaper

रिपोर्ट जे लिख नहि सकलहुं : भाग-दू

ऑल सर्विसेज अंडर वन रूफ क अवधारना आब मूर्तरूप ल चुकल अछि। पटना क ओल्ड कलेक्टेरिएट बिल्डिंग क अपन कार्यालय मे बैस कए अनुप मुखर्जी विकास कार्य क मॉनीटर करि रहल छथि। एहि भवन...
esamaad maithili newspaper

रिपोर्ट जे लिख नहि सकलहुं

तीन साल पहिने बिहार गेल रही। आइ फेर एक बेर बिहार जेबा लेल दिल्ली स्टेशन पर बैसल छी। धुंधक कारण स ट्रेन लेट अछि। हमरा सन अनेक लोक एहि चिंता स ग्रस्त छथि जे...

मोर भैया जीबो कि तोर भैया जीबो

मोर भैया जीबो कि तोर भैया जीबो, दूनूक भैया लाख बरख जिबो, हमर भैयाक पीठ जइसन धोबियाक पाट, हमर भैया क जांघ जइसन केराक थम....... । आई सामा-चकेबा अछि। बहिन सब जुटलथि सामा रंगबा...

200 साल बाद आखिर सच भेल सपना

नव बाट स बदलैत बिहार कए देखबा लेल जखन करीब दर्जन भरि देशक विदेशी पाहुन बिहारक सीमा मे प्रवेश केलाह त पर्यटनक मानचित्र पर बिहार एक बेर फेर अपन मजबूत उपस्थिति दर्ज करेबा मे...
esamaad maithili newspaper

मिथिला चित्रकला : अर्थक अधिकता आ सार्थकता

1960 क दशक मे मिथिला चित्रकला कए दीवार स कागज पर उतारबाक प्रयास शुरू भेल छल आ तहिए स शुरू भ गेल एहि चित्र मे नव-नव प्रयोग। तहिए स शुरू भेल एकर अर्थक नव...
535फॉलोवरफॉलो करें
122सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें