सैलूनक फोटो स संतोष केलक पूर्व मध्य रेलवे

Maharaja Saloon

तिरहुत रेलवे क महाराजा सैलनू क खूबी स परिचित भेल नव पीढी

दरभंगा । राजस्थान हो बा बिकानेर या फेर बडौदा सब ठाम रेलवे अपन धरोहर कए बचा रखने अछि आ आम लोक क संगहि पर्यटक ओहि धरोहर स परिचित होइत रहैत छथि। भारतीय रेलवे क 150म साल पूरा भेला पर जतए सबठाम क धरोहर क प्रदर्शनी कैल गेल, ओतहि पूर्व मध्य रेलवे तिरहुत रेलवे क महाराजा सैलून क मात्र फोटो देखा संतोष केलक। पूर्व मध्य रेलवे द्वारा जारी कैल गेल स्मारिका मे ओना तिरहुत रेलवे क बोर्ड गेज आ मीटर गेज ट्रैक वाला दूनू सैलून क विशेषता कए विस्तार स उल्लेख कैल गेल अछि, मुदा सैलून क वर्तमान स्थितिक संबंध मे कोनो जानकारी नहि देल गेल अछि। एहि रेल सैलून मे एकटा बैडरूम, एकटा ड्राइंगरूम, एकटा वाशरूम छल। सैलून कुल चारिटा कम्पार्टमेंट छल जाहि मे एकटा महाराजा आ तीनटा कोच राजकुमार लेल छल जेकरा कुमार साहब सैलूनक नाम स चिन्हल जाइत छल।
ज्ञात हुए जे बोर्ड गेज वाला सैलून कए 1962 मे सांसद डा कामेश्वर सिंह क निधन क बाद राज दरभंगा भारतीय रेलवे कए रखबा लेल द देलक। एकरा लेल राज दरभंगा रेलवे कए तय रकम चुका रहल छल। रेलवे एहि सैलून कए बरौनी क रेलवे यार्ड मे रखने छल। दुर्भाग्य स 1975 मे दरभंगाक सांसद आ रेलमंत्री ललित नारायण मिश्र क हत्या क बाद बिहारक एकटा राजनेता आ रेलवे क किछु बईमान अधिकारी क मिलीभगत स एहि सैलून क पॉश आ भीतरक चांदीक कृति लूटि लेल गेल आ सैलून कए तहस नहस क आगिक हवाले क देल गेल। पिछला 38 साल स ललित बाबू हत्याकांड जेना एहि अग्निकांडक रिपोर्ट नहि आबि सकल अछि, संगहि एक लाख टकाक बीमा रकम सेहो रेलवे नहि चुकेलक अछि। मीटर गेज क सैलूनक संबंध मे रेलवे किछु कहबाक स्थिति मे नहि अछि, जखन कि राज दरभंगाक दावा अछि जे ओ गोरखपुर यार्ड मे राखल गेल छल।
ज्ञात हो जे तिरहुत रेलवे क मालिक आ दरभंगा क महाराज लेल शाही तरीके स तैयार कैल गेल सैलून अपना आप मे एकटा अदभुत कृति छल। एहि मे चीन स आयल सागवान(टीक), चांदी, पीतल आ चंदनक प्रयोग कैल गेल छल। 1962 तक देशक जे महान विभूति दरभंगा एलाह ओ एहि शाही सैलून क सवारी केलथि। चाहे ओ बीकानेर क महाराज होइथि आ भारत क वाइसराय सब एहि सैलून क सवारी केने छथि। पूर्व राष्ट्Ñपति डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णा समेत देशक कईटा नेता सेहो एहि सैलून पर सफर कर चुकल छथि।
एकर बावजूद रेल मंत्रालयक एकर प्रति उपेक्षा क स्थिति इ रहल जे मंत्रालय लग एहि सैलूनक कोनो फोटो तक उपलब्ध नहि छल। रेलवे क 150 म वर्षगांठ क अवसर पर रेलवे क पदाधिकारी किछु दिन पूर्व दरभंगा स्थित महाराजा कामेश्वर सिंह कल्याणी फाउन्डेशन स सैलून क स्वेत-श्याम फोटो मंगबा लेल आयल छलाह। जखन हुनका स पूछल गेल जे दूनू सैलून त रेलवे लग छल, त अधिकारी एकर कोनो प्रकार क जानकारी स इनकार केलथि।
महाराजा कामेश्वर सिंह कल्याणी फाउन्डेशन क प्रबंधक ट्रस्टी आ प्रसिद्ध चिंतक हेतुकर झा क अनुसार महाराजा कामेश्वर सिंह लग एक जोड़ी रेलवे सैलून छल। एकटा बोर्ड गेज ट्रैक लेल छल जेकर संबंध मे त जानकारी अछि मुदा मीटर गेज ट्रैक लेल जे छल ओकर संबंध मे कोनो जानकारी नहि अछि। श्री झा कहला जे मीटर गेजवाला सैलून बहुत दिन तक दरभंगा स्थित महाराजा क निजी रेलवे स्टेशन पर छल। इ प्लेटफॉर्म नरगौना पैलेस क परिसर मे अछि जे आब अपन वजूद बचेबा मे असमर्थ अछि।
दरभंगा क विधायक संजय सरावगी सेहो कहैत छथि जे ओ महाराजा क आधिकारिक आवास मे एहि सुसज्जित सैलून कए देखने छथि। ओ कहैत छथि जे ओ एकटा अभूतपूर्व धरोहर छल। मुदा दुर्भाग्य स एहि धरोहर क अंशमात्र आइ सुरक्षित नहि अछि। जनता दल यूनाइटेड क बिनोद झा कहब अछि जे दरभंगा महाराज क मीटर गेज सैलून कए ताकल जेबाक चाही आ मिथिला क एहि हेरिटेज कए रेलवे संग्रहालय मे सुरक्षित रखबाक चाही। पूर्व मध्य रेलवे द्वारा चित्र कए प्रदर्शित करबा लेल ओ रेल मंत्रालय कए धन्यवाद देलथि।
इ-समाद, इपेपर, दरभंगा, बिहार, मिथिला, मिथिला समाचार, मिथिला समाद, मैथिली समाचार, bihar news, darbhanga, latest bihar news, latest maithili news, latest mithila news, maithili news, maithili newspaper, mithila news, patna, saharsa

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

1 टिप्पणी

  1. Neek vaa bejaay – appan appan mat thik.

    Par etbaa jaroor je ee chitra Aitihaasik dharohari chhee.

Comments are closed.