सुखद भविष्य क अपनी इमेज सुधारें

पटना। उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी कहला अछि जे सुखद भविष्य क लेल इ जरूरी अछि जे अहां अपन ‘इमेजÓ कए सुधारी। मुस्लिम समाज कए केंद्रित करि अपन एहि संबोधन मे ओ कहला जे बहुसंख्यक समाज क संग संवादहीनता क स्थिति भारतीय समाज क विशेषता नहि अछि। फिजां अहांक हक मे भले बदलि रहल हुए मुदा जखन तक अहां आगू बढि़ कएओकर फायदा नहि उठायब , किछु नहि होइवाला अछि। अपन स्व क पहचान कए बेसी महत्व देबा स बेसी इ आवश्यक अछि जे अहां अपना कए एकटा सामान्य मनुष्य क तरह प्रोजेक्ट करि। इस्लाम सेहो सद्भाव क गप कहैत अछि। उपराष्ट्रपति अंसारी राजधानी स्थित खुदाबख्श ओरिएंटल पब्लिक लाइब्रेरी परिसर मे खुदाबख्श स्मृति व्याख्यान मे इ गप कहलाह। एहि मौका पर राज्यपाल देबानंद कुंवार आ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सेहो उपस्थित छलाह। उपराष्ट्रपति अपन व्याख्यान मुस्लिम समाज क स्थिति पर अपना कए केंद्रित रखलाह। एहि क्रम मे ओ विश्व क ओहि देश क सेहो चर्चा कलथि जतय मुस्लिम आबादी काफी संख्या मे अछि। ओ कहला जे अपना कए काफी सुपीरियर आ फेर इनफीरियर बुझबाक कांप्लेक्स कए छोडि़ खूब गप हेबाक चाही। सामाजिक दायित्व क काज मे सबहक सहभागिता ेबाक चाही मुस्लिम पुरुष क संग-संग मुस्लिम महिला कए सेहो एहि तरह क काज मे अपन सहभागी बनाउ। इ हमरा सब लेल चुनौती अछि।
उपराष्ट्रपति क व्याख्यान क पूर्व राज्यपाल देबानंद कुंवार आ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सेहो अपन विचार रखलथि। मुख्यमंत्री कहला जे खुदाबख्श लाइब्रेरी पटना मे अछि, इ हमरा लेल गौरव क गप अछि। लाइब्रेरी क निदेशक डॉ इम्त्यिाज अहमद अतिथि क स्वागत केलथि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments