शरद पर तमसाइल मधेपुरा

sharad
जदयूक राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव मधेपुरा स सांसद छथि। मध्यप्रदेश मे जन्म लेलाक बावजूद शरद यादव बिहारक एकटा पिछड़ल जिलाक जनताक प्रतिनिधित्व करि रहल छथि। जनता कए विश्वास छल जे ओ क्षेत्रक आवाज देशक सबस पैघ पंचायत मे उठेबाक प्रयास करताह। क्षेत्रवाद स महाराष्ट्र आ असम मे प्रताडि़त भ रहल बिहार बिहार एहि बेरका चुनाव मे जातिवाद आ क्षेत्रवाद स ऊपर उठबाक प्रयास केलक, मुदा मधेपुराक सांसदक व्यवहार देखि निराशा अछि। पूरा समाज तमसाइल अछि। कारण साफ छैक, मधेपुराक आवाज संसद क भीतर आ बाहर उठेबाककोनो प्रयास शरद यादव दिस स नहि भ रहल अछि। क्षेत्र मे आइल बाढि़क मामला शरद चुप छथि, हुनकर बदला मे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बाजि रहल छथि। जनता एहि मसला पर अपन तामस दबा लेलक, किया कि शरद कए वोट देबाक सबस पैघ कारण नीतीश कुमार छलाह। मधेपुराक जनता कए पैघ झटका तखन लागत जखन ममता बनर्जीक रेल बजट संसद मे पेश भेल। एहि रेल बजट मे ओना त बिहार कए किछु नव नहि भेटल, मुदा किछु पुरान योजना कए भरपूर टका देल गेल। गौर करबाक गप इ रहल जे नीतीशक क्षेत्र हरनौत मे कारखाना लेल प्रयाप्त टका आवांटित भेल अछि। एतबे नहि लालूक क्षेत्र छपरा मे रेल कारखाना लेल सेहो खजाना खोलल गेल, मुदा शरद यादवक क्षेत्र मधेपुरा मे प्रस्तावित रेल कारखाना लेल महज किछु लाख टका आवंटित कैल गेल। मधेपुराक जनता कए उम्मीद छल जे शरद यादव किछु बजताह। शरद यादव संसद मे बजलाह, खूब बजलाह। एतबा धरि बजलाह जे ‘जहर खा लेबÓ मुदा मधेपुराक सवाल पर नहि महिला आरक्षणक सवाल पर। हद त तखन भ गेल जखन ममता बनर्जी मधेपुराक कारखाना कए बनेबाक कैबिनेटक फैसला कए रद्द कए देलथि। कहल जा रहल अछि जे आब ओ कारखाना निजी भागीदारी स बनत, जेकर संभावना कम अछि। किया कि पहिने सेहो एहिना बनेबाक योजना छल, मुदा कोनो निजी कंपनी मधेपुरा मे कारखाना लगेबाक इच्छा नहि जतौलक। आखिरकार तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद कहलथि जे रेल मंत्रालय एहि कारखानाक निर्माण करत। लालू एहि फैसला कए कैबिनेट स मंजूरी सेहो दिया देलथि। मुदा मधेपुराकभाग्य आ राष्ट्रीय नेताक व्यवहार एक बेर फेर सामने आइल। मधेपुराक कारखाना खुलबा स पहिने बंद करबाक प्रयास भ रहल अछि आ शरद यादव चुप छथि। सूत्र कहैत अछि जे हुनका लेल इ क्षेत्रीय मामला अछि आ ओ त राष्ट्रीय नेता छथि, ताहि लेल इ मुद्दा लालू प्रसाद सन नेता लेल ठीक अछि। सवाल पैदा होइत अछि जे मधेपुराक आवाज कए उठाउत। मधेपुरा बाजार मे पानक दुकान पर चलि रहल बहस स त साफ लगैत अछि जे एहिठामक जनता शरद यादव कए जार्ज बाबूक जेकां राज्यसभा पठा देबाक इच्छा रखैत अछि। लालू प्रसाद कए मधेपुरा स हरेबा लेल दिन-राति एक करनिहार रामविलास यादव कहैत छथि जे हमरा लोकनि कए एकटा मधेपुराक प्रतिनिधि चाही, न कि राष्ट्रीय नेता। आइ हमसब अनाथ जेका छी। हमर दुख हमर प्रतिनिधि संसद मे नहि बाजि रहल अछि। लालू या नीतीश अगर मधेपुरा लेल बाजि रहल छथि, त एकर मतलब इ नहि भ सकैत अछि जे हमरा अपन प्रतिनिधिक जरूरत नहि अछि। लालू आ नीतीश ममता स टका लेबा मे सफल रहलाह, मुदा शरद कए देखला स लगैत नहि अछि जे हुनकर क्षेत्र स रेल कारखाना उठाउल जा रहल अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

1 टिप्पणी

  1. बड्ड नीक प्रस्तुति। मोन प्रसन्न भए गेल।
    समाद मैथिलीक ऑनलाइन समाचारपत्रक रूप मे जे सेवा कए रहल अछि से
    लोकक मोनमे अंकित भए गेल अछि।

Comments are closed.