विक्रमशिला विवि स भेल बंग्ला भाषा क विकास

भागलपुर : प्राचीन इतिहास क विद्वान आ तिलकामांझी भागलपुर विवि क प्रो. राजीव सिन्हा कहला अछि जे पूर्व मध्यकाल क विक्रमशिला विश्वविद्यालय क इतिहास काफी समृद्ध रहल अछि। विक्रमशिला क कला अपना आप मे काफी महत्वपूर्ण अछि। अपभ्रंश हिंदी आ बंग्ला भाषा क विकास एहि विक्रमशिला क कारण भ सकल। ‘विक्रमशिला विश्वविद्यालय क ऐतिहासिक प्रासंगिकता विषय पर आयोजित परिचर्च मे प्रो. सिन्हा बुद्धत्व, बोधिसत्व, विक्रमशिला आ चंपानगर क व्यवसायिक इतिहास कए जोड़िकए कईटा विक्रमशिला विश्वविद्यालय क महत्व क जानकारी देलथि। ओ कहला जे एहि विवि क तंत्र विद्या मे बड़ पैघ योगदान अछि। मुदा तंत्र ज्ञान क दुर्गुण क कारण इ बौद्ध धर्म लेल अंतिम धधकैत दीप सेहो साबित भेल।
परिचर्च मे एसएम कॉलेज क एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. रमन सिन्हा कहला जे विक्रमशिला विवि नालंदा विश्वविद्यालय स बेसी महत्वपूर्ण अछि। नालंदा विवि गुप्त काल मे बनल छल, ओ स्वर्णिम समय छल आओर इ नालंदा शहर मे बनल छल। मुदा, विक्रमशिला विवि पाल काल मे बनल छल। इ आर्थिक संकट क दौर छल आओर इ निपट देहात मे बनाउल गेल छल। डॉ. सिन्हा कहला जे एकर महत्व कए देखैत एहि ठाम विक्रमशिला केंद्रीय विश्वविद्यालय या विक्रमशिला तकनीकी विश्वविद्यालय क स्थापना कैल जेबाक चाही।
ओना टीएनबी कॉलेज क अतिथि शिक्षक डॉ. रविशंकर चौधरी क कहब छल जे नालंदा आ विक्रमशिला क तुलना नहि कैल जेबाक चाही। विक्रमशिला कई मायने मे नालंदा स बेसी महत्वपूर्ण अछि। खास क तंत्र विद्या मे। ओ कहला जे इ अलग गप अछि जे आधुनिक दुनिया मे तंत्र क पढ़ाई खत्म भ चुकल अछि आ इ विधा आइ जादू-टोना क रूप ल लेलक अछि।

इ-समाद, इपेपर, दरभंगा, बिहार, मिथिला, मिथिला समाचार, मिथिला समाद, मैथिली समाचार, bhagalpur, bihar news, darbhanga, Hawai seva, latest bihar news, latest maithili news, latest mithila news, maithili news, maithili newspaper, mithila news, patna, saharsa

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments