विकास ललित बाबू क सोच मे शामिल छल

दरभंगा। लनामिवि मुख्यालय परिसर में आयोजित ललित जयंती के अवसर पर विभिन्‍न लोक क कहब छल जे विकास ललित बाबू क सोच मे शामिल छल। विकास क खातिर ओ शहीद भ गेलाह। कोसी पर बनल महासेतु क नाम ललित बाबू क नाम स रखबाक चाही किया जे इ हुनकर सोच क परिणाम अछि। ओ केंद्र सरकार मे कईटा पद पर रहैत बिहार आ मिथिला क विकास क महत्वाकांक्षी योजना कए क्रियान्वित करि विकास क पथ प्रशस्त केलथि। रेलमंत्री क रूप मे ओ 36टा परियोजना क सर्वेक्षण करौलथि। एहि अवसर पर सर्वसम्मति स महासेतु क नाम ललित बाबू क नाम पर रखबाक आ लनामिवि कए केंद्रीय विवि क दर्जा देबा संबंधी प्रस्ताव पारित कैल गेल।
कार्यक्रम मे बतौर विशिष्ट अतिथि पूर्व विधान पार्षद कमल नाथ सिंह ठाकुर लनामिवि क इतिहास लिखबा पर जोर दैत कहला जे मुटा क प्रस्ताव पर ललित बाबू क नाम विवि मे जोडल गेल छल। ललित बाबू एहन नेता छलाह जे अपन विरोधी कए सेहो मदद करबा लेल तैयार रहैत छलाह। ओ कहला जे मिथिला क विकास क बिना बिहार क विकास संभव नहि अछि। मिथिला क अलग पहचान दियेबा मे हुनकर अहम भूमिका कए बिसरल नहि जा सकैत अछि। छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष डॉ. प्रभु नारायण झा कहला जे छात्र राजनीति मे सक्रिय रहल ललित बाबू देश क राजनीतिक क्षितिज पर छायल रहलाह। विवि क स्थापना मे हुनकर अविस्मरणीय योगदान रहल।
विधान पार्षद विनोद कुमार चौधरी शैक्षणिक विकास लेल राज्य सरकार द्वारा कैल गेल कार्य क चर्चा केलथि। सभा कए पूर्व मुख्‍यमंत्री जगन्‍नाथ मिश्र, प्रधानाचार्य रामकुमार मिश्र, डॉ. मुश्ताक अहमद, डॉ. कामेश्‍वर झा, डॉ. एसएम झा, डॉ. दिलीप कुमार चौधरी, स्वागत भाषण प्रतिकुलपति डॉ. ध्रुव कुमार आ धन्यवाद ज्ञापन कुलानुशासक डॉ. टीएन झा केलथि। ओतहि कुलपति डॉ. एसपी सिंह क अभिभाषण कुलानुशासक श्री झा मंच स पढ़लथि। सभा क संचालन प्रो. पुतुल सिंह केलथि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments