रॉकेट साइंस मे नव प्रयोग लेल संस्कृत विद्वान क जरूरत पूरा करत दरभंगा

0
7
esamaad maithili newspaper

दरभंगा। कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय जाहि बाट पर चलबाक योजना तैयार केलक अछि ओ अगर सफल भेल त नासा मे सेहो दरभंगा चर्चित भ जाएत। कहल जा रहल अछि जे बहुत जल्‍द नासाक रॉकेट साइंस मे नव प्रयोग लेल संस्कृत विद्वान क जरूरत पूरा करबा लेल कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय एकटा प्रस्‍ताव ओहि ठाम पठा रहल अछि। एहि लेल कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय बेंगलुरु क आईटी कंपनी कान्टि सेमेंटीज प्रा.लि. क संग प्रयोग क तौर पर एकटा वीडियो श्रृंखला जारी करि रहल अछि। एहि श्रृखलाक शुरुआत शुक्रदिन भेल। इ श्रृंखला कंपनी क उत्पाद निमिट क माध्यम स नासा क संग संग समस्‍त विश्व मे उपलब्‍ध कराउल जा रहल अछि। एहि योजना क संबंध मे जानकारी दैत कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय कुलपति डॉ. अरविंद कुमार पांडेय कहला जे हाल मे नासा कए रॉकेट साइंस मे नव प्रयोग लेल संस्कृत विद्वान क जरूरत पूरा नहि भ सकल छल। एहि संदर्भ मे एकटा रिपोर्ट किछु दिन पहिने पढबा लेल भेटल छल। ओहि रिपोर्ट कए पढलाक बाद इ पहल करबाक योजना तैयार कैल गेल अछि। आब इ धरातल पर उतरबाक क्रम मे अछि। कंपनी क निदेशक दीपक कुमार आ रूपेश कुमार कहला जे कुलपति क कक्ष मे साहित्य विभाग क प्राचार्य डॉ. देवनारायण झा आ डॉ. लक्ष्मीनाथ झा क व्याख्यान कए 15-15 मिनट क वीडियो तैयार कैल जा चुकल अछि। एकरा शीघ्र जारी कैल जाएत। एहि मौका पर कुलपति डॉ. पांडेय विवि क एहि अदभुत प्रयास कए विस्‍तार स जानकारी देलथि। ओ कहला जे एकर माध्‍यम स संस्कृत नव ऊंचाइ कए छूबि सकत। संगहि दरभंगा क सेहो देश विदेश मे नाम होएत। ज्ञात हुए जे अंतरिक्ष विज्ञान लेल महत्‍वपूर्ण ग्रंथ ‘ग्रहणमाला’ एहि विश्‍वविद्यालयक धरोहर छल जे चोरी भ चुकल अछि। एहन मे विवि क इ प्रयास उम्‍मीद जगेलक अछि जे धरोहर गंवा देबाक बावजूद विवि प्रशासन एहि प्रकारक काज लेल प्रयास करब नहि छोडलक अछि।

Please Enter Your Facebook App ID. Required for FB Comments. Click here for FB Comments Settings page