रामलीला मे मिथिला क लोक संस्कृति

1
7

पटना। उत्‍तर प्रदेशक कईटा लोक दरभंगा क नाम ओहि ठामक रामलीला पार्टी कए ल कए जनैत छथि। आइ मिथिलाक सांस्‍कृतिक अवसान एहन भ चुकल अछि जे मैथिली लोक कला मे किर्तनिया नाच एकटा इतिहास बनि चुकल अछि। इ शैली मृत प्राय भ गेल अछि, मुदा मिथिला क मोदलता, स्नेहलता, प्रेमलता, कनकलता, सीताराम शरण, प्रभृत लोक श्रीराम विवाह क माध्यम स एहि शैली कए पुनर्जीवित करबाक प्रयास क रहल छथि। एहि क्रम मे श्री सीताराम विवाह मंडली (मधुबनी) क स्थापना भेल, जेकर ख्याति भारत आ नेपाल मे सामान रूप स अछि। इ मंडली भारतीय नृत्य कला मंदिर मे रामलीला क मंचन केलक। एहि मे मिथिला क लोक संस्कृति क पूरा रंग देखबा मे भेटल। कला, संस्कृति आ युवा विभाग, बिहार सरकार आओर संगीत नाटक अकादमी, दिल्ली दिस स आयोजित शताब्दी रामायण महोत्सव क दोसर दिन पं. ब्रज बिहारी मिश्र क निर्देशन मे मिथिला लोक शैली मे रामलीला क सराहनीय प्रस्तुति स दर्शक सेहो मंत्रमुग्ध भ गेलाह। श्री सीताराम विवाह क विभिन्न प्रसंग कए बड अजगुत अंदाज मे कलाकार पारंपरिक मिथिला लोक शैली मे मंच पर उतारलथि।

Please Enter Your Facebook App ID. Required for FB Comments. Click here for FB Comments Settings page

1 COMMENT

  1. मिथिलाक लोक नाट्यक भूमिका ठीके मे महत्वपूर्ण छैक , मुदा हमर सभक शिथिलता आ बजारवादक चकाचौंध मे ओकरा बिसरि रहल छियैक। किन्तु ई प्रयास पुनः मिथिलाक अस्मिता के जगाओत आ हम सभ सेहो एहि परम्पराकें जिएबाक लेल आत्मसात होयब। ओना हेरायल लोक कतेक जल्दी घुरैत छथि से कहब कठिन अछि तथापि आशा तं नीकें करब ने।

Comments are closed.