रामजी ठाकुर कए संस्‍कृत लेल अकादमी पुरस्‍कार

धर्मपुर (मनीगाछी)। सर्वोच्च साहित्यिक संस्था साहित्य अकादमी दिल्ली एहि साल संस्कृत साहित्य लेल उजान पंचायत क धर्मपुर निवासी डा. रामजी ठाकुर कए पुरस्कृत करबाक घोषणा केलक अछि। साहित्‍य अकादमी क एहि निर्णय स क्षेत्र मे खुशी क लहरि अछि। डा. ठाकुर कए इ पुरस्कार हुनकर रचना लघु पद्य प्रबंध त्रयी नामक पुस्‍तक पर भेटल अछि। मूलत: संस्कृत क विद्वान आ आध दर्जन स बेसी संस्कृत काव्य क रचयिता डा. ठाकुर क प्रारंभिक शिक्षा अपन गाम क दुर्गा भवन संस्कृत पाठशाला मे प्राप्त केलथि। वर्ष 1935 स्व. सत्यनारायण ठाकुर क घर मे जन्म लेनिहार ठाकुर गाम मे मम. धनुर्धर झा स शिक्षा लेलाक बाद रहीमपुर (खगड़िया) संस्कृत महाविद्यालय मे शास्त्री तक साहित्य क अध्ययन स्व. पं. गणेश शर्मा क सानिध्य मे लेलथि। एकर बाद दरभंगा क रमेश्वरी लता संस्कृत महाविद्यालय मे पं. त्रिलोक नाथ मिश्र स साहित्य क विभिन्न ग्रंथ क शिक्षा लेलथि। आर्थिक विपन्नता क कारण रहीमपुर आ दरभंगा मे छात्रवृत्ति क माध्यम स हिनकर जीवन यापन चलैत रहल छल। श्री ठाकुर शिक्षा समाप्ति क बाद संस्कृत महाविद्यालय बैगनी आ म. लक्ष्मीश्वर महाविद्यालय, सरिसवपाही मे अपन सेवा करैत लनामिवि दरभंगा क स्नातकोत्तर संस्कृत विभाग स वर्ष 95 मे सेवानिवृत्त भ कए साहित्य साधना मे लागल छथि। पुरस्कार क घोषणा क बाद डा. ठाकुर अपन प्रतिक्रिया मे कहला अछि जे हुनका लेखन क प्रेरणा मातामह पं. लक्ष्मीनाथ झा स भेटल। ओ बिहार संस्कृत अकादमी कए सक्रिय बनेबाक आवश्यकता बतबैत संस्कृत शिक्षा क प्रचार कए सेहो वर्तमान समय लेल उपयोगी बतेलथि अछि।
maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna, दरभंगा, मिथिला, मिथिला समाचार, मैथिली समाचार, बिहार, मिथिला समाद, इ-समाद, इपेपर

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

1 टिप्पणी

Comments are closed.