राज श्‍मशान माधेश्‍वर क विकास लेल 6 करोड

दरभंगा। पर्यटन क दृष्टि स दरभंगा क विकास करबाक दिशा मे राज्‍य क सरकार एकटा आर डेग बढेलक अछि। कामेश्‍वर नगर स्थित राज परिवारक श्‍मशान स्‍थल माधेश्‍वर परिसर क विकास आ सौंदर्यीकरण लेल पर्यटन विभाग 6 करोड़ 66 लाख पांच हजार टका क स्वीकृति देलक अछि। ज्ञात हुए जे एहि परिसर मे राज परिवारक कईटा चिता पर भव्‍य मंदिर बनल अछि। सबस पुरान मंदिर महाराजा रुद्र सिंह क चिता पर अछि जखन कि सबस नव मंदिर महाराजा कामेश्‍वर सिंह क चिता पर बनल अछि। ओना एहि परिसर मे सबस बेसी भीड महाराजा रामेश्‍वर सिंह क चिता पर बनल रामेश्‍वरी श्‍यामा मंदिर मे रहैत अछि। दरभंगा क विधायक संजय सरावगी एहि संबंध मे विस्‍तार स जानकारी दैत कहला जे कामेश्‍वर नगर क विकास लेल ओ सतत प्रयत्‍नशील छथि। ओ कहला जे चौरंगीक विकास लेल सेहो योजना तैयार अछि। श्री सरावगी कहला जे सरकार कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय मुख्यालय स सटल पश्चिम स्थित सरोवर शुक्खी दिग्घी लेल सेहो एक करोड़ 64 लाख 87 हजार 900 टका स्वीकृत केलक अछि। ओ कहला जे एकरा दरभंगा शहर कए पर्यटन क मानचित्र पर अनबाक पैघ पहल कहल जा सकैत अछि। एकरा लेल ओ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी आ पर्यटन मंत्री सुनील कुमार पिंटू क प्रति आभार प्रकट केलथि।
श्री सरावगी कहला जे माधेश्‍वर परिसर लेल राशि दू चरण मे देल जाएत। पहिल बेर 4,53,56,500 टका ओ दोसर बेर 2,12,48,500 टका क काज होएत। प्रथम चरण लेल स्वीकृत कैल गेल राशि मे स तत्काल 3,59,70,700 टकाक निकासी आ व्यय क स्वीकृति सेहो भेट गेल अछि। दोसर दिस इसमाद क पहल क असर कहि सकैत छी जे शुक्खी दिग्घी लेल सेहो निर्धारित राशि क निकासी आ व्यय क स्वीकृति द देल गेल अछि। श्री सरावगी कहला जे एहि राशि स सरोवर क आसपास प्रकाश क व्यवस्था संगहि कछैर मे फुटपाथ क निर्माण, लैंडस्केपिंग, जेटी, मोटर वोट, पैडल वोट आदि क व्यवस्था होएत। उल्लेखनीय अछि जे पर्यटन विभाग ऐतिहासिक हराही पोखरि क सौंदर्यीकरण कार्य कए सेहो स्वीकृत केने अछि मुदा एखन धरि ओ जमीन पर नहि देखा रहल अछि। सौंदर्यीकरण क नाम पर मात्र किछु घाट क निर्माण भ सकल अछि आ आचार्य सुमन चौक लग एकटा द्वार बनाउल गेल अछि। एहन मे महत्‍वपूर्ण अछि जे माधेश्‍वर परिसर आ शुक्खी दिग्घी क बेहतर विकास तेज गति स कैल जाए आ दरभंगा कए प्रति सरकारक उदासीनता क आरोप धूमिल कैल जाए। एकर संगहि दूटा महत्‍वपूर्ण तथ्‍य पर गौर जरूर कैल जाए पहिल इ जे सौंदर्यीकरणक नाम पर महाराज शक्र सिंह द्वारा खोदाउल गेल पोखरी क आकार संग छोडछाड नहि कैल जाए, दोसर इ जे माधेश्‍वर परिसर मे बहुत एहन चिता अछि जाहि पर एखन धरि मंदिरक निर्माण नहि भ सकल अछि। सौंदर्यीकरणक नाम पर एहन चिता सब कए नष्‍ट नहि कैल जाए। ओकर सबहक संरक्षण क जरूरत अछि किया त ओ राज परिवार क धरोहर आ भावनात्‍मक महत्‍वक स्‍थल छी।

maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

3 टिप्पणी

  1. Samaad ta neek, muda e kagate par rahat ke hakeekat me zameen par utarat se sandeh banal achhi.

Comments are closed.