राज्य मे जे भ रहल अछि ओ ठीक नहि: सिद्दीकी

पटना । बिहार विधानसभा क बजट सत्र अपना आप मे एकटा नव तरहक लागि रहल अछि। सत्ता आ विपक्षक बीच गंभीर मतभेद आ जबरदस्त आरोपक बावजूद पहिने सन हंगामा नहि। सत्ता पक्ष जे कहलक विपक्ष शांति स सुनि रहल अछि आ जखन विपक्ष बजबा लेल तैयार भेल त सत्ता पक्ष ओकरा सुनबा लेल खामोश भ सुनैत अछि। कम संख्या हेबाक बावजूद एहि सदन मे नेता प्रतिपक्षक रूप मे सिद्दीकी जखन बजलाह अछि, गंभीरता आ शालीनता स अपन गप रखलाह अछि, दोसर दिस सत्ता पक्ष स सेहो बेवजह टोटा-टाकी नहि देखबा मे आयल अछि। एहने किछु उदाहरण राज्यपाल क अभिभाषण पर नेता प्रतिपक्ष अब्दुलबारी सिद्दीकी क बजबा काल सेहो देखल गेल। उम्मीद क अनुरूप सिद्दीकी क भाषण जबरदस्त आ जिम्मेदार विपक्षक प्रस्तुति कहल जा सकैत अछि। जा धरि ओ बजलाह पूरा सदन खामोस भ कए सिद्दीकी क गप सूनैत रहल। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सेहो एहि दौरान सदन मे बैसल छलाह आ एक एक टा आरोप कए सुनैत छलाह। राज्य मे कानून व्यवस्था स लकए राज्य सरकार द्वारा अधिकारीक चयन मे भ रहल टका आ जाति क नंगा खेल खेलबाक एक एकटा तथ्य सदन क सामने रखैत सिद्दीकी सीधा मुख्यमंत्री कए इ कहैत रहलाह जे राज्य मे सब किछु साफ नहि अछि।
भ्रष्टाचार कए लकए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार क आबि रहल बयान पर चुटकी लैत सिद्दीकी कहला जे आन कोनो काज करबा स पूर्व सरकार कए राजधानी पटना क एपार्टमेंट खरीदनिहार लोकक सूची सार्वजनिक करि देबाक चाही। 75 प्रतिशत ऐपार्टमेंट राज्यक भ्रष्ट अधिकारी छी से साबित भ जाएत, जे राज्य क जनता क हकमारी करि मुख्यमंत्री क आंखिक तारा बनल छथि।
नेता प्रतिपक्ष कहला जे एक दिस मुख्यमंत्री राज्यक जनता स जाति धर्म छोडि बिहारी बनबाक अपील करि रहल छथि आ दोसर दिस अपने जाति स निकलबाक कोनो प्रयास नहि करि रहल छथि। आखिर मुख्यमंत्री तमाम नियम कायद कए ताख पर राखि कए अपन जातिक आइएएस कए पटनाक डीएम किया बना रहल छथि। ओ पूछलाह जे आखिर एहन आइएएस कए पटना क डीएम किया बनाउल गेल जे दोसर स्टेट कैंडर क अछि। ओ पटनाक एसएसपी क नियुक्ति पर सेहो सवाल उठेलाह, ओ कहला जे जम्मू काश्मीर मे गैरजिम्मेदार घोषित अधिकारी कए कोना एहि पद पर नियुक्त करि देल गेल। पिछला छह माह पहिने बिहार डिपटेशन पर आयल आ बिहार क कोनो जिला क पुलिस कप्तान क रूप मे कोनो अनुभव नहि रखनिहार अधिकारी कए पटना क सीनियर एसएसपी बना देल गेल अछि कियाकि ओ नीतीश कुमार क गृह जिला क रहनिहार छथि। भ्रष्टाचार कए लकए कईटा उदाहरण देलथि जाहि मे समाजकल्याण स जुड़ल योजना कए कौन तरह क अधिकारी अपन कनिया बच्चा क नाम पर एनजीओ खोलिकए लूट मचा रहल छथि। सिद्दीकी एकर सूची सेहो सदन क पटल पर रखलाह। आब देखबाक चाही जे सरकार विपक्षक एहि सवाल आ सूची पर की कार्रवाई करैत अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments