राजनीति स बनत बिहार मे अस्पताल

rajniti1
किरण मिश्रा
भोपाल : निर्माता-निर्देशक प्रकाश झा क बहुप्रतीक्षित फिल्म राजनीति क शूटिंग समाप्त भ गेल। आब इ फिल्म पोस्ट प्रोडक्शन क दौर मे अछि। एहि फिल्म क आमदनी स प्रकाश झा अपन गृह प्रदेश बिहार मे एकटा अस्पताल क निर्माण करताह। प्रकाश 1991 मे स्थापित एकटा गैर सरकारी संगठन अनुभूति क लेल टका इक_ा करबा मे लागल छथि। एहि प्रस्तावित अस्पताल मे राज्य क लोक कए कम दाम पर बेहतर चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराउल जाएत। झा एहि अस्पताल लेल एकटा नायाब योजना बनउथि अछि। ओ अपन नव फिल्म राजनीति स कमाउल टका कए एहि अस्पताल क निर्माण मे खर्च करताह। झा क अनुसार इ फिल्म मई 2010 तक रिलीज भ जाएत। झा एहि स पहिने विश्व भरि मे एकर प्रीमियर करि सेहो टका इक_ा करताह। एहि प्रकारे झा अपन महत्वकांक्षी योजना कए मूर्त रूप देबा मे लागल छथि। राजनीति पर चर्चा करैत झा कहलथि जे एकर वास्तविक जीवन स कोनो लेना-देना नहि अछि। भ सकैत अछि जे किछु किरदार अहां कए ककरो स मेल खाइत लागे, मुदा इ महज संयोग मात्र होएत।
ज्ञात हुए जे अजय देवगन, रणबीर कपूर, कैटरीना कैफ, नाना पाटेकर, नसीरुद्दीन शाह, अर्जुन रामपाल आ मनोज वाजपेयी अभिनीत एहि फिल्म क शूटिंग भोपाल मे भेल अछि।

महाभारत स प्रभावित अछि राजनीति : रणवीर
रणबीर क कहब अछि – एखन धरि हम जेतबा फिल्म केलहुं अछि, ओहि मे हमर चरित्र लवर ब्वॉय क रहल। पहिल बेर हम ग्रे शेड क चरित्र निभा रहल छी। इ फिल्म भारतीय राजनीतिक व्यवस्था पर आधारित अछि, मुदा इ महाभारत स प्रभावित अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

2 टिप्पणी

  1. Prakash Jha ke Hospital Kholwak lel bahut bahut dhanybad Sanghi kam dam me garibak lel Elaj hoyat e neek bat theek, ahina sab NRB (Non Residential Bihari) ke kaaj karwak chahi

  2. सबसं पहिने ई-समाद के शुभकामना…जे ई नब पहल केयल गेल। नीक गप्प ई जे कंटेन्ट के आकार छोट अछि…इंटरनेट के पाठक के अबूह नहि लगतन्हि। लेकिन एकटा आग्रह जे- फोंट के साईज बढाएल जाऊ…अगर एकरा नवभारत टाईम्स डाट काम के स्तर पर लाबि सकी त उत्तम। इंटरव्यू के कालम चलैत रहय के चाही…अपन मित्र बंधु जे कियो छथि ओ अगर कतहु जाईथ त एहेन लोक के इंटरव्यू आनथि जे प्रेरणास्पद हो या जिनकर समाज में वहुमूल्य योगदान होन्हि। महत्वपूर्ण बात ईहो जे ई-समाद में मिथिला के हरेक क्षेत्र के समाद हुए…एना नहि हुए जे ई दरभंगा-मधुबनी में फंसि कय रहि जाय। शेष उत्तम अछि। फेर फुरायत त कहब।

Comments are closed.