मैथिली मे शपथ लेनिहारक संख्या बढल, मुदा भोजपुरी क आवाज दबेला पर सब दुखी

पटना। 15म विधानसभा मे मैथिली मे शपथ लेनिहार विधायकक संख्या बढल, मुदा कईटा मैथिल इलाकाक प्रतिनिधि हिंदी मे शपथ लेलथि। दोसर दिस उदय नारायण चौधरी कए भोजपुरी भाषा मे शपथ लेबा स रोकि देल गेल, जे समस्त बिहार क लेल दुखद रहल। ज्ञात हुए जे मैथिली कए आठम अनुसूची मे दर्जा नहि भेटलाक बावजूद सांसद भोगेंद्र झा भारतीय संसद मे मैथिली मे शपथ लेने छलाह। मैथिली समाज हरदम एहि मुद्दा पर भोजपुरीक संग रहल अछि। मुदा इतिहास गवाह अछि जे बिहार कए हिंदी प्रदेश बनेबा लेल राजनीतिक स्तर पर एहि दूनू मजबूत भाषाक बीच मतभेद पैदा करबाक प्रयास होइत रहल अछि। श्रीबाबूक राज मे एहि दूनू भाषा कए कमजोर करबा लेल राजभाषा परिषद कए बेजाप्ता दू लाख टकाक अनुदान सेहो देल गेल छल। आइ लाख जतनक बावजूद बिहारक इ दूनू आवाज बुलंद भ चुकल अछि। मैथिली संविधान मे अपन जगह बना चुकल अछि। भोजपुरी ओतबे हक रखैत अछि जेतबा एहि मे शामिल अन्य भाषा। आशा करैत छी अगिला विधानसभा मे बिहारक दूनू भाषा समान श्प स गुंजत। ओना एहि बेर विधानसभा मे खजौली विधानसभा क्षेत्र क विधायक अरुण शंकर प्रसाद, मधुबनी क विधायक रामदेव महतो, बेनीपट्टी क विधायक विनोद नारायण झा, झंझारपुर क विधायक नीतीश मिश्र सहित कई गोटे बिहारक भाषा मैथिली मे शपथ ल माइक कर्ज चुकेबाक काज केलथि। अंतरराष्टीय मैथिली परिषद दिस स डॉ धनाकर ठाकुर एहि लेल विधायक सब कए धन्यवाद देलथि अछि आ आशा केलथि अछि जे आगू एहि प्रकारक विधायक क संख्या आओर बढत।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments