मिथिला क्षेत्र मे लागत बिहार क पहिल परमाणु विद्युत संयंत्र

नई दिल्‍ली। कटिहार जिलाक कुरसेला मे बिहार क पहिल परमाणु विद्युत संयंत्र खोलबाक फैसला लेल गेल अछि। एकरा लेल बिहार सरकार एकटा ताजा प्रस्ताव न्यूक्लियर पॉवर कारपोरेशन इंडिया लिमिटेड ( एनपीसीआईएल ) कए पढा देलक अछि। इ बिहार सरकार क उर्जा क क्षेत्र मे भारी मांग आ उर्जा आपूर्ति क अन्तर कए पूरा करबा मे सहायक होएत। ज्ञात हुए जे बिहार सरकार अपन निजी प्रयाय स राज्य मे परमाणु उर्जा, थर्मल पॉवर आ पनबिजली क क्षेत्र मे संभवना ताकि रहल अछि आ एहि एहि पर लगातार काज क रहल अछि। बिहार सरकार पहिने परमाणु विद्युत संयंत्र लेल नवादा मे जगह देखने छल, मुदा ओहि ठाम जल क समस्‍या भेल, तखन सरकार बिना समय बर्बाद केने नव जगह क रूप कटिहार क चयन केलक अछि।
बिहार राज्य बिजली बोर्ड क अध्यक्ष पीके राय एहि संबंध मे कहला अछि जे परमाणु उर्जा संयंत्र क लेल कुरसेला मे जमीन आ जल दूनू पर्याप्त मात्रा मे अछि। ताहि लेल हमसब एहि संयंत्र लेल कुरसेला क चुनाव केलहुं अछि। एहि ठाम एहन कोनो समस्‍या नहि अछि ताहि लेल उम्‍मीद कैल जा सकैत अछि जे न्यूक्लियर पॉवर कारपोरेशन इंडिया लिमिटेड ( एनपीसीआईएल ) हमर सबहक प्रस्‍ताव कए मंजूर क लेत।
किछु दिन पहिने एनपीसीआईएल नवादा जिला क रजौली मे एकटा 4 गुणा 700 एमवी क परमाणु उर्जा सयंत्र लगेबाक प्रयास केने छल मुदा जल क अभाव कए देखलाक बाद बिहार सरकार स दोसर जमीन उपलब्‍ध करेबाक आग्रह केलक।
बीएसइएस क अध्यक्ष राय कहला जे रजौरी परियोजना लेल 320 क्यूसेक जल क जरुरत छल जाहि मे स केवल 160 क्यूसेक क बंदोबस्त भ सकल छल। बिहार जल संसाधन विकास विभाग संकेत देलक जे प्रस्तावित धनजरिया जलाशय आ फुलवरिया जलाशय एहि सयंत्र लेल उपयुक्त नहि अछि। मुदा विभाग एहि दिस ध्यान नहि देलक आ इ मामला लटकी गेल। एकर बाद राज्‍य सरकार कए इ भान भेल जे न्यूक्लियर पॉवर कारपोरेशन इंडिया लिमिटेड( एनपीसीआईएल) बिहार कए इ परियोजना नहि देत। पहिने त राज्‍य सरकार एनपीसीआईएल स अनुरोध केलक जे परियोजना क क्षमता कए घटा देल जाए आ एकरा 2 गुणा 700 एमवी क देल जाए ताकि 127 क्यूसेक जल स परियोजना क शुरुआत भ सकए। सरकार क एहि प्रस्ताव कए न्यूक्लियर पॉवर कारपोरेशन इंडिया लिमिटेड ( एनपीसीआईएल) नामंजूर क देलक। एकर बाद दोसर जमीन तकबाक अलावा सरकार लग दोसर कोनो रास्‍ता नहि बचल।
कोयला क गंभीर संकर कए ध्यान मे रखैत बिहार सरकार रजौली उर्जा सयंत्र क स्थापना लेल नव दलील देलक आ एकर नवीनीकरण पर जोर देलक। एहि मुद्दा पर हाल मे नई दिल्ली मे भेल उर्जा मंत्री क संग बैसार मे एहि पर सेहो चर्च भेल। बिहार क उर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद क कहब अछि जे परमाणु उर्जा संयंत्र लेल 2007 मे जमीन क चयन भेल छल, मुदा जलक समस्‍या पर चर्च बहुत बाद मे शुरू भेल।
दोसर दिस राय कहला जे सरकार एनसीपीएल स अनुरोध केलक अछि जे जलक संभावित संसाधन क संग परमाणु उर्जा पर पुनर्विचार कैल जाए। ओ कहला जे अगर क्षमता मे कटौती भ जाइत अछि त नवादा तैयार अछि, मुदा अगर कटौती पर गप नहि बनल त कुरसेला मे जमीन उपलब्‍ध करा देल जाएत। ज्ञात हुए जे अगर कटिहार क कुरसेला मे इ संयंत्र लगैत अछि त इ बिहार क पहिल परमाणु संयंत्र होएत। संगहि पूर्वोत्तर क्षेत्र सेहो एखन धरि कोनो परमाणु उर्जा सयंत्र नहि अछि। अगर एहि सयंत्र क स्थापना भ जाइत अछि त इ मिथिला या बिहार क लोक लेल नहि बल्कि पूर्वोतर भारत क लोक लेल पहिल संयंत्र होएत। ऊर्जा क समस्‍याक निराकरणक संगहि रोजगार क अवसर सेहो मुहैया कराउत।

maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments