एहि साल पूरा नहि भ सकत कोनो महासेतु

1
36

पटना / सुपौल। राज्य मे रेल पुल क निर्माण लगभग ठमकल अछि, इस्‍ट वेस्‍ट कारिडोर लेल जे पुल निर्माण मे भ रहल अछि ओ सेहो नदी मे जलस्‍तर बढबा स ठप भ गेल अछि। दोसर दिस पुल निर्माण मे भ रहल पर पटना हाईकोर्ट केंद्र सरकार कए दू मास क भीतर स्थिति स्पष्ट करबा लेल कहलक अछि। मुंगेर क सांसद राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह क लोकहित याचिका पर सुनवाई करैत अदालत इ स्‍पष्‍टीकरण रेलमंत्रालय स मंगलक अछि। याचिका मे कहल गेल अछि जे राज्‍यक योजना कए बिना कोनो आधार कए देर कैल जा रहल अछि।
याचिका पर बहस करैत वरीय अधिवक्ता बसंत कुमार चौधरी कहला जे दीघा, मुंगेर आ नर्मली मे बनि रहल रेल पुल क निर्माण कार्य 2003 स चलि रहल अछि। मुंगेर पुल लेल 193 करोड़, दीघा पुल लेल 173 करोड़ आ नर्मली पुल लेल महज 88 करोड़ टका एहि साल देल गेल अछि। कोसी पुल कए 2010 तक पूरा करबाक लक्ष्‍य राखल गेल छल। याचिका मे कहल गेल अछि जे बिना कोनो आधार कए बिहारक एहि निर्माणाधीन पुल सब कए कनि कनि टका आवंटित कैल गेल अछि। एहि स निर्माण कार्य मे देरी क संग संग एहि परियोजनाक लागत सेहो बढल जा रहल अछि। एहि पर न्यायाधीश सुधीर कुमार कटरियार आ न्यायाधीश विकास जैन क खंडपीठ मामला कए गंभीर कहैत केंद्र स सफाई मंगलक अछि।
दोसर दिस सुपौल से आबि रहल सूचनाक अनुसार कोसी नदी क जल स्तर मे वृद्धि क संग अस्थायी पथ ध्वस्त भ गेल आ पूर्वी आ पश्चिमी कोसी क्षेत्र कए जोड़बा लेल बनि रहल इस्ट-वेस्ट कॉरीडोर लेल कोसी महासेतु क निर्माण काज ठप भ गेल अछि। जानकारक कहब अछि जे इ पुल आब एहि साल नहि चालू भ सकत। हालांकि महासेतु निर्माण कंपनी क डीजीएम आर प्रकाश क कहब अछि जे कोनो हालत मे इ पुल एहि सालक अंत तक चाले भ जाएत।
1934 क भूकंपक बाद दू भाग मे विभक्त मिथिला कए जोड़बा लेल तीनटा पुल बनि रहल अछि मुदा सबस पहिने बनि कए तैयार हेबाक स्थिति मे एनएच-57 इस्ट वेस्ट कॉरीडोर क कोसी नदी पर निर्माणाधीन इ महासेतु अछि जेकर लंबाई 1870 मीटर अछि। एहि महासेतु मे कुल 39टा पीलर क निर्माण करबाक अछि जाहि मे स पूर्वी भाग स्थित 39म पीलर पर केवल काज शेष अछि। एहि पीलर क निर्माण काज सेहो माटि क सतह स ऊपर तक भ चुकल अछि। शेष 38टा पीलर क निर्माण काज संपन्‍न अछि। वर्तमान मे कंपनी द्वारा पीलर क ऊपर गार्टर बिछेबाक काज सेहो 32 नंबर पीलर तक पूरा भ चुकल अछि, मुदा जलस्तर मे वृद्धि क बाद स काज ठप अछि। महासेतु क पूर्वी छोर स्थित 39म पीलर स सरायगढ़-भपटियाही क चिकनी गाम तक छह किमी एनएच क निर्माण हेबाक अछि। निर्माण कंपनी द्वारा माटिक काज युद्ध स्तर पर कैल जा रहल अछि। एनएच क सुरक्षा लेल निर्मित गाइड बांध पर पाइनक दबाव अछि,मुदा पिछला साल सन स्थिति पैदा हेबाक आशंका कम अछि।
इस्ट-वेस्ट कॉरीडोर कए पूरा भ जेबाक स एहि पिछडल इलाका मे समृद्धि क मार्ग प्रशस्त होएत, संगहि दू भाग मे विभक्त जिलावासी एक दोसर स जुडबा स राहत महसूस करताह। एहि महासेतु क निर्माण स जिला क निर्मली आ मरौना प्रखंड क लोक कए जिला मुख्यालय पहुंचब आसान भ जाएत, जखकि एहि बाट स सुपौल स दरभंगा महज 124 किमी भ जाएत।

Comments

comments

1 COMMENT

  1. महामना वाजपेयी द्वारा शिलान्यसित ई पूल हुनक मैथिलीक आठं अनुसूचीक मान्यट्स कम मह%

Comments are closed.