बैंक मे जमा अछि बिहारीक एक लाख करोड़

पटना । बिहारीक एक लाख करोड़ स बेसी टका बैंकक राज्य मे स्थापित विभिन्न शाखा मे जमा अछि। एकर बावजूद बिहारी कए ऋण देबा मे बैंक कोताही करैत अछि। इ खुलासा राज्यस्तरीय बैंकर्स कमेटी क बैठक मे भेल। बैठक क बाद उपमुख्यमंत्री सह वित्तमंत्री सुशील कुमार मोदी कहला जे लघु आ अति लघु औद्योगिक इकाइ मे दिलचस्पी रखनिहार लेल जल्द एकटा सम्मेलन आयोजित भ रहल अछि। लोक नौकरी क मोह त्याग उद्योग लगेबा लेल सामने आबथि। एक करोड़ टका तक क कर्ज बिना बंधेज क भेटत। कम कर्ज देबा मे कंजूस बैंक मे सरकारी धन नहि रहत। मोदी कहला जे अनेक बैंक कर्ज वितरण मे काफी कोताही बरैत रहल अछि। एहन बैंक क बारे मे जिलाधिकारी स कहल गेल अछि जे ओहि मे सरकारी धन कए जमा नहि कैल जाए। प्राइवेट बैंक मे त एकदम नहि। ओ कहला जे सरकार बैंक स डेयरी, मुर्गी पालन, मछली पालन, कृषि संयंत्र आ भू-जल सिंचाई योजना क लेल तत्काल कर्ज मुहैया करेबा लेल कहलक अछि। एकरा लेल जनवरी-फरवरी आ मार्च मे 10 तारीख कए हर प्रखंड मे कृषि मेला लगाउल जाएत। जाहि ठाम कृषि, सहकारिता, लघु सिंचाई, राजस्व आ भूमि सुधार विभाग आओर बैंक क अधिकारी मौजूद रहताह। तत्काल कैंप स्थल पर कर्ज क मंजूरी दैत। कैंप मे किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) क सेहो वितरण होएत। एहि साल 20 लाख गोटे क बीच केसीसी वितरित कैल जेबाक लक्ष्य अछि। ओ कहला जे विकास आयुक्त क अध्यक्षता मे एकटा कमेटी गठित कैल गेल अछि। कमेटी देखत जे ब्याज क दर कोना कम कैल जा सकैत छै। बैंक मे बढल भ्रष्टाचार पर मोदी कहला जे एहि संबंध मे जल्द कार्रवाई कैल जाएत। बैंक लग अपन निगरानी दस्ता अछि मुदा ओ सक्रिय नहि अछि, राज्य सरकार देख रहल अछि जे कोनो अपन निगरानी विभाग स एहि पर कार्रवाई क सकैत छी। ओना ग्रामीण आ सहकारिता बैंक क अधिकारिक शिकायत राज्य निगरानी स कैल जा सकैत अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments