बेकाबू भीड़ पर गोलीबारी लेल अनुमति क दरकार नहि : डीजीपी

दरभंगा। ‘शूट विद कैमरा नॉट विद वेपन’ सन बयान द नव बहस शुरू केनिहार बिहार क पुलिय महानिदेश अभयानंद कहला अछि जे उपद्रव आ हिंसा क स्थिति मे जान माल क रक्षा आ सार्वजनिक संपत्ति कए नुकसान स बचेबा लेल बेकाबू भीड पर फायरिंग लेल पुलिस कए ककरो स अनुमति लेबाक जरूरत नहि अछि। किशनगंज स दरभंगा तक भेल अपराध क समीक्षा लेल दरभंगा आयल डीजीपी पत्रकार क सवाल क उत्‍तर द रहल छलाह।
ज्ञात हुए जे एक दिन लेल दरभंगा पहुंचल अभयानंद दरभंगा जोन क पुलिस क समस्या स रूबरू सेहो भेलथि। एहि बैसार मे डीजीपी क अलावा आइजी जेएस गंगवार, डीआइजी मानवाधिकार रवीन्द्रन शंकरण, डीआइजी सुधांशु कुमार, पूर्णिया क डीआइजी बच्चू सिंह मीणा, सहरसा क डीआइजी संजय सिंह, एसएसपी गरिमा मलिक, सिटी एसपी कुमार एकले, मधुबनी क एसपी आरके मिश्रा, समस्तीपुर क एसपी वरुण कुमार, सहरसा क एसपी एके सत्यार्थी, मधेपुरा क एसपी सौरभ कुमार साह, कटिहार क एसपी किम, किशनगंज क एसपी मनोज कुमार आ पूर्णिया क अमित लोढ़ा शामिल छलाह।
पुलिस महानिदेशक अभयानंद क इ दौरा कई दृष्टिकोण स महत्वपूर्ण रहल। ओ स्वीकार केलथि जे पुलिस मे सुविधा क कमी अछि मुदा एकर मतलब इ कतई नहि जे अनुसंधान मे कोताही कैल जाए। एहि परिस्थिति मे बेहतर काज करबाक अछि। निरंतर सुधार क प्रक्रिया चलि रहल अछि। एहि दिशा मे सरकार आ पुलिस महकमा गंभीर अछि।
राज्य मे कानून व्यवस्था क समीक्षा क क्रम मे डीजीपी अपन पदाधिकारी कए सीखबा आ अपना आप मे निरंतर सुधार अनबा क नसीहत देलथि, ओतहि ओ जनता स संयम बरतबा क अपील सेहो केलथि। बैसार मे ओ आपराधिक वारदात क वैज्ञानिक अनुसंधान, आर्थिक अपराध पर कार्रवाई, तेजी स ट्रायल करेबा लेल जरुरी कार्रवाई, त्वरित अपील आ जमानत पर छूटल अपराधी क खिलाफ कार्रवाई पर जोर देलथि।
ओ कहला जे संगीन वारदात मे काफी कमी आयल अछि। बाहुबली क दिन लद चुकल अछि। जे किछु घटना हाल फिलहाल मे भेल अछि ओ दोसर तरहक अछि। एहन घटना कए रोकबा लेल सेहो आब त्वरित कार्रवाई कैल जा रहल अछि। चाहे ओ मधुबनी क घटना हो या फेर दरभंगा क अशोक पेपर मिल फायरिंग कांड। एकटा समय एहनो छल जखन बेसरा जांच रिपोर्ट एबा मे तीन चार माह लागि जाइत छल मुदा आइ 24 स 48 घंटा मे जांच रिपोर्ट तैयार भ जाइत अछि। अनुसंधान क तौर तरीका बदलल अछि। फारेंसिक साइंस लेबोरेट्री (एफएसएल) क जांच टीम दू स तीन घंटा मे घटनास्थल पर पहुंच जाइत अछि। आब घटना क तुरंत बाद थानाध्यक्ष या अनुसंधानकर्ता एफएसएल टीम स मोबाइल पर संपर्क क घटनास्थल पर मौजूद सामान क नमूना एकत्रित क सकैत छथि।
मधुबनी क घटना क उल्‍लेख करैत ओ जनता स सेहो संयम बरतबाक अपील केलथि आ कहला जे पुलिस अहांक संग अछि। अगर कोनो पुलिस पदाधिकारी गलत काज करैत छथि त निश्चित रूप स हुनकर खिलाफ कार्रवाई होएत।
दरभंगा में भेल पुलिस फायरिंग पर ओ कहला जे जखन भीड बेकाबू भ जाइत अछि त आत्मरक्षा लेल पुलिस कए गोलीबारी करबा लेल ककरो स अनुमति लेबाक कोनो जरूरत नहि अछि। एहन पुलिस कए फायरिंग करबाक अधिकार अछि। ओ कहला जे अशोक पेपर मामला क विशेष जांच करा रहल छी।
maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments