बिहार क पहचान बनत पटना लिटरेचर फेस्टिवल : नीतीश

पटना । देश मे अगर कतहु साहित्य क उत्सव मनाउल जेबाक चाही, त ओकरा लेल स्वाभाविक स्थान कतए भ सकैत अछि? शनिदिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इ सवाल 77 साल बाद एक बेर फेर स पटना मे शुरू भेल पटना लिटरेचर फेस्टिवल क उदघाटन क क्रम मे देलथि। ओ कहला जे बिहार कहियो व्‍यापार लेल नहि जानल गेल, बिहार सब दिन ज्ञानक केंद्र रहल। बिहार क समाज पठनिहार अछि, साहित्‍य क कोनो आयोजन लेल बिहार सबस उपयुक्‍त जगह अछि। पटना लिटरेचर फेस्टिवल क औपचारिक शुभारंभ करैत नीतीश कहला जे बिहार क पहचान अगर ज्ञान केंद्र नालंदा क संग जुड़ल अछि, त एकर राजधानी पटना मे साहित्य उत्सव हेबाक चाही। मुख्यमंत्री कहला जे राज्य सरकार पटना लिटरेचर फेस्टिवल संग एहन कोनो आयोजन मे सहयोग देबा लेल तैयार अछि। संस्कृति विभाग क बजट मे एकरा लेल प्रावधान सेहो कैल जाएत, मुदा सरकार एकर कंटेंट (विषयवस्तु) कए कतई प्रभावित नहि करत। सभागार मे मौजूद साहित्य प्रेमी एहि घोषणा कए करतल ध्वनि स स्वागत केलथि। श्री कुमार कहला जे पटना लिटरेचर फेस्टिवल क आयोजन एना हेबाक चाही जे लोक कए एहि आयोजन कए बाट ताकथि। राज्य सरकार क युवा कार्य आ संस्कृति विभाग संग नवरस स्कूल आफ परफार्मिग आ‌र्ट्स क सहयोग स राजधानी क तारामंडल सभागार मे आयोजित भेल पटना लिटरेचर फेस्टिवल पर प्रसन्नता प्रकट करैत मुख्यमंत्री कहला जे इ शुरुआत बहुत नीक अछि। एकर निरंतरता रहबाक चाही। सब साल इ हेबाक चाही। एकरा व्यापक आ संस्थागत स्वरूप देल जाए। ओ कहला जे एहि महोत्सव मे बिहार क भागीदारी क सेहो ध्यान राखल जाए। बिहारक रचनाधर्मिता क उपेक्षा नहि हेबाक चाही। मशहूर शायर गुलजार, कलीम आजिज, पाकिस्तान स आयल फहमीदा रियाज आ अन्य कईटा शायर क मौजूदगी मे मुख्यमंत्री कहला जेहुनका अंग्रेजी स परहेज नहि अछि, ओकरा सेहो जगह भेटबाक चाही, मुदा साहित्य महोत्सव कए भारतीय भाषा क बीच संवाद क मंच बनाउल जाए।
एहि अवसर पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, कला संस्कृति मंत्री डा.सुखदा पांडेय आ मुख्यमंत्री के सांस्कृतिक सलाहकार पवन कुमार वर्मा सेहो अपन विचार रखलथि।

maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna, दरभंगा, मिथिला, मिथिला समाचार, मैथिली समाचार, बिहार, मिथिला समाद, इ-समाद, इपेपर

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments