बिहार क अंकुर लिखलथि उपलब्धि की एकटा नव किताब

मोतिहारी । मोतिहारी क एकटा अंडर-ग्रजुएट छात्र कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग पर किताब लिखक दुनिया इतिहास मे उपलब्धि क एकटा नव अध्याय जोडि देलथि अछि। पटना विवि एहि बीसीए छात्र लिखल किताब पटना विश्वविद्यालय बीसीए एमसीए पाठ्यक्रम मे शामिल करि लेल गेल अछि। प्रोग्रामिंग इतिहास मे एखन धरि अंकित फाडिया नाम दर्ज छल, जे पोस्ट ग्रेजुएट पढ़ाई करैत किताब लिखने छलाह। अंकुर हुनका स एक डेगगूढि गेलाह अछि। तीन मई कए बिहार दौरे पर आबिहल पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम सेहो अंकुर स भेंट करताह। मोतिहारी चांदमारी चाणक्यपुरी मोहल्ला निवासी डॉ. (प्रो.) राधाकांत तिवारी रीता तिवारी 21 वर्षीय पुत्र अंकुर पटना कॉलेज मे बीसीए तृतीय वर्ष छात्र छथिहुनकर लिखल किताब पटना विश्वविद्यालय बीसीए एमसीए पाठ्यक्रम मे सेहो शामिल करि लेल गेल अछिआओर आओर हुनकर बुक ऑन प्रोग्रामिंग आइआइटी एनआइटी फ‌र्स्ट सेमेस्टर कोर्स मे सेहो शामिल कैल गेल अछि। अंकुर कहैत छथि जे खन बिहार इंटरमीडिएट शिक्षा परिषद स आइएससी परीक्षा उत्तीर्ण केलथि त हुनका कंप्यूटर पढ़बा मे बहुत परेशानी भेलकोनो एहन किताब उपलब्ध नहि छल जे जाहि स हम बेहतर ज्ञान अर्जित करि सकीएहि क्रम मे छात्र मदद लेल सरल पुस्तक लिखबाक संकल्प लेलथि। 20 साल स कम उम्र मे पुस्तक लिखनाइ शुरू केलथि आओर तीन मास क कठिन साधना बदौलत पुस्तक लिखनाइ संपन्‍न भेल। 15 मार्च 2011 कए एकर लोकार्पण पटना विश्वविद्यालय मे कुलपति क हा स भेल । अंकुर अनुसार एहि किताब मे प्रोग्रामिंग कए सरल तरीकाबुझाउल गेल अछि। करीब 15 वर्ष उम्र मे ट्रांसमीटर तकनीक इजाद करनिहार अंकुर सपना स जरूरतमं कए नि:शुल्क कम्प्यूटर सिखेबाक अछिएकरा लेल ओ एकटा वेबसाइट सेहो खोललथि अछिओहि पर पांच सौ स बेसी पुस्त उपलब्ध अछि

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments