बिजली घोटाला क सीबीआई जांच हुए : सिद्दीकी

पटना । बिहार विधानसभा मे विरोधी दल क नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी चारि हजार करोड़ क कथित बिजली घोटालाक सीबीआई जांच क मांग केलथि अछि। सिद्दीकी पटना आओर ओकर आसपास कईटा औद्योगिक प्रतिष्ठान द्वारा पैघ पैमाना पर बिजली चोरी क मामले मे बिजली बोर्ड क तत्कालीन अध्यक्ष स्वपन मुखर्जी आ बोर्ड क किछु अभियंता क संलिप्तता क आरोप लगेलथि अछि।
विरोधी दल नेता कहला जे एहि मामला क पर्दाफाश करनिहार विद्युत निगरानी क तत्कालीन एडीजी आनंद शंकर कए पद स हटा देल गेल। हुनकर जगह पर मनोज नाथ कए आनल गेल जे सबटा आरोपितक खिलाफ निगरानी थाना मे मुकदमा दर्ज करेलथि त हुनको बाहर क रास्ता देखा देल गेल। एहि पूरा मामला मे अब्दुल बारी सिद्दीकी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कए पत्र लिखकए सीबीआई जांच क मांग केलथि अछि।
की अछि मामला: पटना क लग पास स्थित दादी जी स्टील लिमिटेड मे 6 मई 2008 कए निगरानी परिषद विद्युत कोषांग क दिस स कैल गेल छापेमारी क हवाला दैत नेता प्रतिपक्ष कहला जे ओहि छापेमारी मे बिजली चोरी क पैघ मामला पकडल गेल छल आ जब्त मीटर कए भोपाल मे भेल जांच मे 13 बेर छेड़छाड़ क गप सामने आयल छल। एकर बाद दादी जी स्टील लिमिटेड क विरुद्ध 16 सितंबर कए कांड संख्या 69/2008 क तहत विद्युत अधिनियम क धारा 135, 138 आ दोसर संबंधित धारा मे मुकदमा दर्ज कैल गेल।
पत्र मे कहल गेल जे 6 मई कए छापेमारी भेलाक बाद बिजली बोर्ड 2 जून कए विद्युत संहिता क अध्याय 11.4 क तहत स्वैच्छिक घोषणा क योजना शुरू करि देलक। एहि योजना क तहत कोई उपभोक्ता यदि स्वेच्छा स मीटर या ओकर सील मे छेड़छाड़ क संबंध मे घोषणा करैत अछि त ओकरा विरुद्ध मुकदमा दर्ज नहि कैल जाएत। आओर कोनो दंडात्मक शुल्क सेहो नहि लेल जाएत।
सिद्दीकी कहला जे एहि योजना क जरिए इरादतन कैल गेल बिजली चोरी कए गैर इरादतन आओर स्वैच्छिक घोषणा क मामला बनाकए 20 करोड़ क जुर्माना राशि क बदला मे केवल 1 करोड़ 70 लाख क राशि लकए मामला कए सलटा देल गेल। पत्र मे कहल गेल अछि जे एहि साजिश कए पर्दाफाश करैत विद्युत निगरानी क तत्कालीन एडीजी मनोज नाथ बिजली बोर्ड क तत्कालीन अध्यक्ष क विरुद्ध जखन निगरानी थाना मे कांड संख्या 34/2009 दर्ज करैत सरकार स अभियोजन क स्वीकृति गंगलाह त हुनका इ नहि भेटल, उल्टे बोर्ड अध्यक्ष कए हाई कोर्ट मे मामला उठेबा लेल पर्याप्त समय द देल गेल। सिद्दीकी एहन 52टा आओर प्रतिष्ठान द्वारा कुल चारि हजार करोड़ क बिजली चोरी क मामला कए रफा-दफा करबाक कथित घोटाला क सीबीआई जांच क मांग केलथि अछि।
अब्दुल बारी सिद्दीकी कहला जे नीतीश सरकार बिजली आपूर्ति मे पक्षपात करि रहल अछि। मुख्यमंत्री क गृह जिला नालंदा, ऊर्जा मंत्री क गृह जिला सुपौल आओर राजधानी पटना मे जतए 16 घंटा स 24 घंटा बिजली उपलब्ध अछि, ओतहि बाकी जिला मे रहनिहार लोक कए एक घंटा ठीक स बिजली नहि भेट रहल अछि। विपक्ष क नेता कहला जे एहि वजह स राज्य क विभिन्न जगह पर लोक क आक्रोश फूट रहल अछि। सिद्दीकी कहला जेनीतीश सरकार क छह माह पूरा भेलाक बाद राजद एहि मामला मे सड़क पर उतरबा लेल तैयार अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments