बाढ़ स दू-दू हाथ करैत वैदेही


खगड़िया । बाढ़ रूपी आपदा स आब नहि होएत जानमाल क अपूर्णीय क्षति। कारण इ जे वैदेही अर्थात खगड़िया क बहू-बेटी एकरा स दू-दू हाथ करबा लेल तैयार भ रहल छथि। एहि ठामक तीसटा महिला बाढ़ मे बचाव कए लकए बूढ़वा घाट क लग मे हिलकोर मारैत बागमती मे 1 जुलाई स ट्रेनिंग ल रहल छथि। हिनका बाढ़ मे डूबैत लोक कए बचेबाक संग-संग सांप काटबा आ डायरिया आदि बीमारी क प्राथमिक उपचार क ट्रेनिंग सेहो देल जा रहल अछि। द ट्रेनिंग हुनका किसान विकास ट्रस्ट क दिस स टीडीएच जर्मनी क सहयोग स देल जा रहल अछि। महिला शक्ति संगठन स जुड़ल सदस्य क रूप मे जखन लाइफ जैकेट पहनिकए बागमती मे छलांग लगबैत छथि त दृश्य कोनो बालीबुड क सिनेमा स कम नहि होइत अछि। रीता वर्मा(घरारी), डोमनी देवी (अंबा रसौंक), नीलम देवी (चकला मुसहरी), हीरा देवी (तीनगछिया) कहैत छथि- जखन-जखन बाढ़ अबैत अछि, त हमरा सब कए काफी नुकसान होइत अछि। हमसब जन्मजात तैराक छी। केबीटी (किसान विकास ट्रस्ट) वाला ट्रेनिंग द रहल अछि। आब बाढ़ मे ककरो नहि डूबए देब।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments