अपराध नियंत्रण लेल डिजिटल तकनीक अपना रहल अछि बिहार

पटना। बिहार मे अपराध नियंत्रण एकटा चुनौति मानल जाइत अछि। एकरा लेल पुलिस मुख्यालय राजधानी मे डिजिटल अंदाज मे अपराध नियंत्रण क योजना कए अंतिम रूप देलक अछि। पूरा व्यवस्था कए स्थापित आ संचालित करबा लेल कंपनी ताकल जा रहल अछि। बिहार जे व्‍यवस्‍था लागू करबाक सोचि रहल अछि ओ व्‍यवस्‍था एखन धरि दिल्ली आ मुंबई मे लागू अछि। देश मे एहि तरह व्यवस्थावाला पटना तेसर शहर होएत। योजनाक संबंध मे कहल जा रहल अछि जे अपराध नियंत्रण क डिजिटल तकनीक स जुडल इ योजना एकटा काल सेंटर क माध्यम स संचालित होएत। पुलिस नियंत्रण कक्ष परिसर मे चौबीस घंटा काज करैवाला एकटा अत्याधुनिक काल सेंटर बनाउल जाएत। ओहि ठाम पटना शहरी क्षेत्र मे स्थित सबटा थाना आ ओकर चौहद्दी वाला डिजिटल नक्शा लागल रहत। इ डिजिटल नक्शा पुलिस नियंत्रण कक्ष क सड़क पर घूमि रहल पेट्रोलिंग गाडी मे फिट जीपीएस स कनेक्ट रहत। पेट्रोलिंग मे सड़क पर घूमि रहल जिप्सी कोन इलाका मे घूम रहि अछि, इ नियंत्रण कक्ष मे लागल डिजिटल नक्‍शा पर देखाइत रहत। काल सेंटर क 100 नंबर पर जखन कियो कतहु स अपराध या कोनो अन्य सूचना देत त काल सेंटर तुरंत संबंधित इलाका मे घूमि रहल पुलिस जिप्सी मे फिट कैल गेल स्क्रीन पर एसएमएस करि देत। ओ तखनधरि बिप करैत रहत जखन धरि जिप्सी स इ संदेश काल सेंटर नहि पहुंचत जे ओकरा इ मैसेज भेट गेल अछि। काल सेंटर मे इ सेहो देखब आसान रहत जे सूचना क बाद जिप्सी क मूवमेंट कोन कात भेल अछि। यानी अपराधी त नहि भागी सकत पुलिस सेहो अनठियेबाक प्रयास करत त पकडा जाएत।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments