प्रेस क्लब आफ इंडिया पहिल बेर केलक मैथिली कार्यक्रम

सुलभ संस्थापक देलथि मैथिल पत्रकार समूह कए दस लाख

नयी दिल्ली । प्रेस क्लब परिसर मे 28 नवंबर कए मिथिला महोत्सव क आयोजन कैल गेल। इ आयोजन दिल्ली-एनसीआर सहित देश क अन्य हिस्सा मे कार्यरत पत्रकार क समूह मैथिल पत्रकार समूह, प्रेस क्लब ऑफ  इंडिया आ मैथिली भोजपुरी अकादमी दिल्ली सरकार क संयुक्त तत्वावधान में भेल। कार्यक्रम क माध्यम स मिथिला क संस्कृति क परिचय देबाक प्रयास कैल गेल। प्रेस कल्ब ऑफ  इंडिया मे आयोजित एहि पहिल मैथिली सांस्कृतिक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद छलाह सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डा. बिंदेश्वर पाठक। एहि अवसर पर डॉ पाठक नवसृजित संस्था मैथिल पत्रकार समूह कए दस लाख टका क सहायता राशि देबाक घोषणा केलथि। एहि अनुदान राशि क इस्तेमाल मिथिला पत्रकार समूह कए सुव्यवस्थित करबा मे आ समाजिक हित पर खर्च करबा मे कैल जायत।

संस्था क सदस्य मदन झा क कहब अछि जे मैथिल पत्रकार समूह दिल्ली-देश भरि मे बिहार आ नेपाल क मिथिला क्षेत्र स संबंध रखनिहार पत्रकार क नवगठित समूह अछि। ओ कहला जे एहि संस्था क उद्देश्य देश क विभिन्न हिस्सा मे मिथिला, मैथिली क संग मैथिल संस्कृति क प्रचार, प्रसार करब अछि। इ समूह एकटा गैर राजनैतिक संस्था अछि। प्रेस क्लब ऑफ इंडिया के महासचिव नदीम अहमद काजमी कहला जे एहि कार्यक्रम कए दिल्ली सरकार क मैथिली भोजपुरी अकादमी प्रायोजित केलक अछि। प्रेस क्लब ऑफ इंडिया मे संभवत पहिल बेर मैथिली भाषा क कोनो कार्यक्रम आयोजित कैल गेल अछि। क्लब सिंधी, पंजाबी, कुमाऊं आ गढ़वाली भाषा क कार्यक्रम आयोजित क चुक अछि। उल्लेखनीय अछि जे एहि प्रेस क्लब में छह साल पूर्व मैथिली क पहिल इपेपर इसमाद डॉट कॉम क लोकार्पण सेहो भेल अछि।

प्रवासी मैथिल पत्रकार क नवसृजित संस्था मैथिल पत्रकार समूह क निमंत्रण पर कार्यक्रम में दरभंगा स सांसद कीर्ति आजाद समेत भाजपा क वरिष्ठ नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन आ कांग्रेस महासचिव शकील अहमद सेहो उपस्थित भेलाह। दिल्ली मे मैथिली नाट्यमंच तैयार करनिहार प्रकाश झा क संस्था मेलौरंग क कलाकार सब झिझिया, डोमकच और जट-जटिन नृत्य स उपस्थित पत्रकार सबहक मन—मोह लेलक। एकर अलावा मैथिली क चर्चित लोकगायक हरिनाथ मिश्र, संजय झा, अमित अकेला, पूजा झा, निवेदिता आ अन्य कलाकार प्रेस क्लब ऑफ इंडिया क प्रांगण कए तीन घंटा तक मैथिली स गुंजमान रखलथि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments