प्रणब दा लिखताह बिहार पर किताब

नई दिल्ली । केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी बिहार क संस्थागत सुधार पर किताब लिखबाक इच्छा प्रकट केलथि अछि। प्रणब दा कहला अछि जे बिहार गरीब जरूर अछि मुदा बिहारक वित्तीय प्रबंधन क स्थिति आन बहुत राज्य स मजबूत अछि। बिहारक वित्तीय स्थिति और तेज विकास दर आइ हमरा एकरा पर किताब लिखबा लेल मजबूर करि रहल अछि। हम व्यक्तिगत रूप स बिहार क प्रगति देखि-जानि गदगद छी। इ गप ओ पिछला सप्ताह नीतीश कुमार स बिहार पर चर्चा क दौरान कहलाह। ओ नीतीश स बिहारक प्रगति पर विस्तृत जानकारी लेलथि।
प्रणब दा नीतीश स कहलथि जे हम अखबार आ लोक स बिहारक बारे मे पढैत आ सुनैत रहैत छी, हमरा पता अछि जे बिहार मे सड़क क स्थिति काफ़ी नीक भ गेल अछि। प्रणब दा कहला जे ओ एहि बेर बिहारक बजटक बाट ताकि रहल छथि किया जे बिहारक विकासक गति कए कायम रखबा लेल इ बजट महत्वपूर्ण होएत।
प्रणब दा लेल बिहार केतबा महत्वपूर्ण भ चुकल अछि एकर अंदाजा एहि स लगाउल जा सकैत अछि जे नीतीश संग हुनकर बैठक भोर मे तय छल, मुदा कैबिनेटक बैठक हेबाक कारण ओ संभव नहि भ सकल। बिहारक अधिकारी लगभग इ मानि चुकल छलाह जे कैबिनेट क बैठक आ बजटक तैयारी मे व्यस्त प्रणबदा स नीतीशक भेंट मोंटेक संग बैठक स पहिने संभव नहि भ सकत, मुदा कैबिनेट क बैठक खत्म होइत देरी प्रणब दा नीतीश स भेंट करबा लेल तैयार भ गेलाह। दोपहर 1ः30 बजे काफ़ी व्यस्त शिड्यूल स समय निकालि वित्त मंत्री मुख्यमंत्री स बिहारक विकासक विस्तार स जानकारी लेलथि।
नीतीश कुमर लेल इ राहत क गप छल, हुनकर मांग सुनबा स पहिने वित्त मंत्री बिहार मे भ रहल काजक प्रशंसा शुरू करि देलथि आ एहि मे कोनो प्रकारक बाधा कए दूर करबाक वादा सेहो करि देलथि। इ सुनि योजना आकार कए घटेबा लेल जी जान लगौनिहार अधिकारीक माथ पर पसीना आबि गेल, चूंकि योजना आकार क मंजूरी मे वित्त मंत्रालय क किछु अधिकारी संसाधन कए ल कए अडंगा लगा रहल छलाह, एहन मे प्रणब दा क मुंह स बिहार क प्रगति क गुणगाऩ सुनि कए वित्त मंत्रालय क अधिकारी तत्काल अपन आंकड़ा कए दुरुस्त करबा मे लागि गेलाह।
मुख्यमंत्री विशेष राज्य क दर्जा सहित बीआरजीएफ़ क बचल एक हजार करोड़ आ 12म पंचवर्षीय योजना मे सेहो एकरा जारी रखबाक मांग प्रणब दा लग रखलथि। स्पेशल कंपोनेंट क तहत गंडक परियोजना, रेलवे पुल, गंगा नदी पर पुल ओद क लेल राशि बढ़ेबा पर सेहो चर्चा भेल। प्रणब दा गंभीरता स मुख्यमंत्री क गप सुनैत रहलाह।
नीतीश जखन हुनका इ-शक्ति प्रोजेक्ट क बारे मे बता रहल छलाह, त ओ एतबा उत्साहित भ गेलाह जे कहला जे एहन प्रोजक्ट कए त आन राज्य कए सेहो अपनेबाक चाही। साइकिल योजना सहित बिहार मे चलि रहल तमाम योजना क बारे मे जानकारी लेलाक बाद प्रणबदा कहला जे बिहार कए आगू बढबा स रोकब आब कोनो आयोगक हाथ मे नहि अछि।
चूंकि बिहार पहिल राज्य छल, जेकरा एहि साल सबस पहिने योजना आयोग स बजट क मंजूरी लेबाक छल, ताहि लेल काज क आधार पर योजना आकार बढ़ेबा लेल प्रयासरत नीतीश लेल प्रणबदाक इ उदगार एक प्रकार स सकून द देलक। योजना आयोग क बैठक स पूर्व वित्त मंत्री क संग मुख्यमंत्री योजना आकार क मुताबिक बिहार कए केंद्र स नहि भेटल राशि पर सेहो गप केलथि, एहि प्रकार स कोनो एहन बाधा नहि रहि गेल छल, जेकरा लकए वित्त मंत्रालय आपत्ति करए।
योजना आयोग क संग बैठक स पूर्व वित्त मंत्री क संग भेंट क मनोवैज्ञानिक प्रभाव आओर दबाव सेहो बनल आ प्रणब दा क सामने लगभग इ तय भ गेल जे बिहार क योजना आकार 24 हजार करोड़ स कम नहि होएत।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

Comments are closed.