पीएचडी स पूर्व शोध पत्र क प्रकाशन अनिवार्य भेल

दरभंगा। कामेश्‍वर सिंह संस्‍कृत विश्‍वविद्यालय नुका कए पीएचडी क डिग्री लेनिहार लेल कडा नियम लागू क देलक अछि। नव नियमक अनुसार आब कोनो शोधकर्ता बिना अपन शोधपत्र कोनो स्‍तरीय पत्रिका मे प्रकाशित केने पीएचडी क डिग्री नहि ल सकताह। हुनका कम स कम एकटा शोध पत्र जरूर प्रकाशित करब अनिवार्य होएत। कासिंदसंवि क दरबार हाल मे मंगलदिन आयोजित शोध परिषद क बैसार में कईटा निर्णय लेल गेल। बैसार मे इ तय कैल गेल जे पीएचडी लेल पंजीयन आब समान नियमावली क आलोक मे होएत। ओतहि शोध प्रबंध जमा करबा स पूर्व स्तरीय शोधपत्रिका मे शोध पत्र क प्रकाशन अनिवार्य होएत। शोधार्थी कए छह मास क कोर्स वर्क करबाक होएत। एहि दौरान शोध स संबंधित सबटा बारीकी क जानकारी देल जाएत। कुलपति डा.अरविंद कुमार पांडेय क अध्यक्षता मे विगत बैसार क संपुष्टि करैत ओहि गवेषक कए जिनकर शोध प्रारुप स्वीकृति क बाद कतिपय कारण स रजिस्टर्ड नहि भ सकल छल ओकरा शोध परिषद मे नव सिरा स पेश करबाक निर्णय भेल। शोध प्रबंध जमा करबा क निर्धारित अवधि कए तीन मास लेल विस्तारित कैल गेल। उक्त बैसार मे राज्यपाल सचिवालय स प्राप्त पीएचडी नियमावली कए 2013 स लागू करबाक निर्णय सर्वसम्मति स लेल गेल। विभिन्न विषय क विशेषज्ञ शोध प्रारुप क वीक्षण क शोध परिषद कए स्वीकृति, अस्वीकृति आ संशोधन करबाक अनुशंसा सेहो केलथि।
maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna, दरभंगा, मिथिला, मिथिला समाचार, मैथिली समाचार, बिहार, मिथिला समाद, इ-समाद, इपेपर

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments