पहिल ‘विश्वमय अस्पताल’ क शुभारंभ 22 कए, दरभंगा कए भेटत लाभ

पटना । पटना स्थित एम्स राज्य क नहि बल्कि देश आ दुनिया क कोनो कोने मे सही इलाज मुहैया करा सकैत अछि। अहां बस बताउ, अहांक कष्‍ट की अछि, एम्स ओकरा दूर करत। जी हां, तकनीक क कमाल आ एम्स निदेशक क दूरदर्शिता स देश क पहिल ‘विश्वमय अस्पताल’ क परिकल्पना साकार भ रहल अछि। एखन परीक्षण क तौर पर ट्रामा आ इमरजेंसी सेवा प्रतिदिन सांझ चारि स पांच बजे क बीच शुरू कैल गेल अछि। 22 जनवरी कए विधिवत शुभारंभ क बाद एकरा पूर्णकालिक बना देल जाएत। पूर्ण ओपीडी चालू भेलाक बाद एकर पूरा लाभ सुदूर क्षेत्र क लोक कए भेट सकत। 22 जनवरी कए विधिवत शुभारंभ क बाद दरभंगा समेत नालंदा, बाढ़, पालीगंज, दानापुर, दीघा, सिवान, मोकामा, गोपालगंज, आ मधुबनी सन करीब दस ठामक लोक कए एकर लाभ भेटत। एम्‍स निदेशक क कहब अछि जे योजना कए जल्‍द अन्‍य जिला मे सेहो एकरा स्‍थापित कैल जाएत, मुदा कुल आठ हजार 411 पंचायत मे स करीब पांच हजार पांच सौ स बेसी पंचायत मे एखनो बिजली आ इंटरनेट क सुविधा नहि अछि जाहि स ओहि ठाम छतीसा क लाभ देबा मे सरकार कए दिक्‍कत भ रहल अछि।
स्वास्थ्य मंत्री अश्‍वनी कुमार चौबे सेहो एहि बेमिसाल अवधारणा क परीक्षण देखबा लेल पटना स्थित एम्स पहुंचल छलाह। ओहि ठाम ओ देखला जे कोना एहि ठामक चिकित्सक क लाभ सुदूर गाम क मरीज कए भेटत। गरीब स गरीब आदमी टेलीमेडिसिन क द्वारा सुपर स्पेशियलिटी इलाज अपन गाम मे प्राप्त क सकत। वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग स ओ लंदन मे रहनिहार बिहारी मूल क प्रो. डा. वी. गौतम स सेहो गप केलथि। डा. विजय मंत्री कए आश्वस्त केलथि जे इमरजेंसी आ डिजास्टर इलाज मे छतीसा ऐतिहासिक डेग अछि। एहन देश क कोनो राज्य मे पहिने नहि भेल अछि। हम एम्स कए गाम-गाम तक पहुंचा देब। डा. गौतम सेहो कहला जे दिल्ली एम्स क एपेक्स ट्रामा सेंटर स बेहतर केंद्र पटना मे खुलत। लोक पटना आबि कए सीखताह जे कोना ट्रामा आ इमरजेंसी इलाज कैल जाइत अछि। एकर बाद श्री चौबे एक कए बाद एक छहटा रोगी क एहि तकनीक स इलाज करैत डा. जीके सिंह, डा. गौरव पांडेय, डा. केके शर्मा आ डा. अनिल कुमार क टीम कए देखलथि। श्री चौबे कहला अछि जे 22 जनवरी कए जखन छतीसा क विधिवत शुभारंभ होएत तखन देश-विदेश स एहि धरती क विशेषज्ञ चिकित्सक आउताह। ओहि दिन प्रदेश मे पहिल बेर ब्रेन ड्रेन क बजाय ब्रेन गेन होएत। बहुत रास प्रख्यात चिकित्सक विदेश छोडि कए एहि ठाम एबा लेल उत्‍सुक छथि। ओ कहला जे आब समाज क अंतिम व्यक्ति तक विश्‍वक सबस आधुनिक इलाज पहुंचब संभव भ सकत।
ज्ञात हुए जे एम्स क निदेशक डा. गिरीश कुमार सिंह आमलोक कए अपना स जोडैत संकटमोचन नागरिक आ छतीसा नामक योजना शुरू केलथि अछि। छतीसाक तकनीक क संबंध मे ओ कहला जे छतीसा एहन युवा पेशेवर कए स्वयंसेवा क तहत जोडलक अछि जे संस्थान आ रोगी क बीच संवाद सेतु क काज करताह। एम्स प्रबंधन छतीसा स जुड़ल लोक कए संस्थान मे उपलब्ध सुविधा क जानकारी देत। रोगी स्वयंसेवी पेशेवर क माध्यम स छतीसा क लाभ लेल जा सकत। ओ इंटरनेट क माध्यम स एम्स मे डाक्टर क ओहि पैनल स सम्बद्ध हेताह।
maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna, दरभंगा, मिथिला, मिथिला समाचार, मैथिली समाचार, बिहार, मिथिला समाद, इ-समाद, इपेपर

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments