पटना मे एयर एम्बूलेंस सेवावाला पहिल मल्टी स्पेशियलिटी हास्पिटल शीघ्र


पटना । बिहार क लोक कए आब कोनो गंभीर बीमारीक इलाज क लेल मुंबई, दिल्ली अथवा कोलकाता जेबाकमजबूरी नहि रहत। शहर मे एयर एम्बूलेंस सेवा स युक्त विश्व स्तर क सुविधा स परिपूर्ण आधुनिकतम सुपर स्पेशिलियटी हास्पीटल बनेबाक प्रक्रिया शुरू भ गेल अछि। दू वर्ष क अंदर एहि अस्पताल क निर्माण कार्य पूरा करि लेल जाएत। चारि सौ बेड वाला एहि अस्पताल क निर्माण मे लगभग डेढ़ सौ करोड़ खर्च हेबाकसंभावना अछि। सबस पैघ गप अछि जे एहि ठाम गरीब क मुफ्त मे इलाज क व्यवस्था कैैल जा रहल अछि। संगहि एहन व्यवस्था रहत जे एक बेर ओपीडी मे एला पर बार कोडेड कार्ड क जरिये अहांक पूरा इतिहास हमेशा क लेल दर्ज भ जाएत।
एहि संबंध मे निदेशक मंडल क संजीव श्रीवास्तव कहला जे अस्पताल मे विश्वस्तरीय मशीन मे आधुनिकतम तकनीक वाला पेट सीटी स्कैन, लीनियर एक्सीलेटर, लेसिम्स सर्जरी, 3 टेस्ला एमआरआई, केन्द्रीय वातानुकूलन, कैथ लैब समेत संपूर्ण जांच क व्यवस्था कैल जाएत। इतबे नहि एहि अस्पताल मे 12 अति आधुनिक शल्यक्रिया कक्ष क निर्माण सेहो भ रहल अछि। ओहन रोगीक लेल इ वरदान साबित होएत जेकरा आकस्मिक स्थिति मे दिल्ली-मुंबई ल जेबा काल मौत भ जाइत अछि। बिहार मे पहिल बेर कोनो अस्पताल क छत पर हेलीपैड क निर्माण भ रहल अछि, जाहि स एयर एम्बूलेंस सेवा क बेहतर संचालन भ सकत। द्रुत एम्बूलेंस सेवा सेहो शुरू कैल जाएत जे 15 मिनट क अंदर रोगी कए अस्पताल पहुंचा देत। प्रत्येक विभाग क लिए नामचीन आ राष्ट्रीय स्तर क ख्याति प्राप्त विशेषज्ञ चिकित्सक क सेवा लेल जाएत। संस्थान क निदेशक डॉ. संजीव कुमार कहला जे दिल्ली क कंपनी एसोटेक, रामानंद हेल्थ केयर एवं नटराज हेल्थ केयर संयुक्त रूप स एहि आधुनिकतम अस्पताल क निर्माण कार्य शुरू करि देलक अछि। डा.कुमार कहला जे एहि आधुनिकतम अस्पताल मे न्यूरो सर्जरी, न्यूरोलाजी, कार्डियोलाजी आ कार्डियोथोरेसिक सर्जरी, नेफ्रोलाजी, गेस्ट्रो इंट्रोलाजी, यूरोलाजी, गायनोकोलाजी, आर्थोपेडिक सर्जरी, जनरल सर्जरी, पेडिएट्रिक्स, इंटरनल मेडिसिन, नेत्र रोग, इनफर्टिलिटी क्लीनिक, प्लास्टिक एंड कास्मेटिक सर्जरी, कान, नाक आ गला विभाग, डेंटल आ मेक्सिल फेसियल सर्जरी, आनकोलाजी, रेडियोथेरापी, पैथोलाजी, माइक्रोबायोलाजी, इंटरवेंशनल रेडियोलाजी, बायोकेमिस्ट्री, न्यूकिलियर मेडिसिन, चर्म आ गुप्त रोग आओर फिजिकल आ आक्यूपेशनल थेरापी विभाग चलत।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments