नालंदाक बाद आब विक्रमशिला पर ध्यान, संरक्षित होएत धरोहर

भागलपुर। बिहार सरकार नालंदाक बाद आब प्राचीन विक्रमशिला पर ध्यान केंद्रित केलक अछि। सरकार द्वारा कहलगांव स्थित प्राचीन विक्रमशिला विश्वविद्यालय क धरोहर कए संरक्षित रखबा लेल विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करि लेल गेल अछि। एतबे नहि एहि रिपोर्ट कए दिल्ली स्थित भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग क महानिदेशक कए पठा देल गेल अछि। संरक्षण पर करीब 50 लाख टका खर्च हेबाक अछि। छठ पर्व क बाद कोलकाता स वास्तुविद आ सलाहकार औताह आ स्थल क भौतिक निरीक्षण करताह। अधीक्षण पुरातत्वविद् डॉ. संजय कुमार मंजूल क अनुसार प्राचीन स्मारक कए संरक्षित करबाक दायित्व हुनकर विभाग क अछि। एहि कड़ी मे विभाग प्राचीन विक्रमशिला विश्वविद्यालय क धरोहर कए संरक्षित करबाक कार्य शुरू करि देलक अछि। छोट बजट क काज त शुरू भ चुकल अछि, मुदा विस्तृत काज हेबाक अछि। गत वर्ष एएसआई क महानिदेशक केएन श्रीवास्तव साइट देखिकए गेल छलाह। मुख्य स्तूप क संरक्षण क काज पिछला दू माह स चलि रहल अछि। जतए-जतए नोनी लागल छल, ओकरा ठीक कैल जा रहल अछि। जरूरत क मुताबिक आहि ठाम ओहि साइज क ईंट लगाउल जा रहल अछि। डॉ. मंजूल कहला जे महानिदेशक क भागलपुर दौरा क बाद संरक्षण क काज मे तेजी आएल अछि। दोसर दिस विक्रमशिला क धरोहर राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मानचित्र पर त अछि, मुदा विदेशी पर्यटक लेल एहि ठाम एखन धरि समुचित सुविधा उपलब्ध नहि अछि। मालूम हुए जे विक्रमशिला क धरोहर कए संरक्षित करबाक जिम्मेदारी भारत सरकार क अछि। जखन कि एहि ठाम समुचित सुविधाक व्यवस्था करब राज्य सरकारक काज अछि। स्थानीय सांसद शाहनवाज हुसैन द्वारा विक्रमशिला विश्वविद्यालय क संरक्षण पर लगातार आवाज उठेलाक बाद केंद्र एएसआई क महानिदेशक केएन श्रीवास्तव क नेतृत्व मे एकटा दल कए एहि ठाम पठेने छल। महानिदेशक पटना स्थित अधीक्षण पुरातत्वविद् कए विस्तृत प्राक्कलन बनेबा लेल कहने छलाह। रिपोर्ट तैयार भ गेल आ दिल्ली चल गेल।
दोसर दिस शाहकुंड स्थित खीरी पहाड़ी आ कहलगांव स्थित मोहम्मद शाह क मकबरा कए सेहो विकसित करबा लेल प्राक्कलन तैयार कैल गेल अछि। जिला प्रशासन क सहयोग स दूनू स्थल कए पर्यटन स्थल क रूप मे विकसित करबाक प्रयास चलि रहल अछि। ज्ञात हुए जे पुरातत्व निदेशालय, पटना शाहकुंड स्थित खीरी पहाड़ी आ कहलगांव स्थित मोहम्मद शाह क मकबरा कए संरक्षित घोषित करि रखने अछि। एहि दूनू स्थल क ऐतिहासिक महत्व अछि। संग्रहालयाध्यक्ष श्रीकांत भगत कहैत छथि जे मोहम्मद शाह बंगाल क अंतिम मुस्लिम शासक छलाह। मुंगेर मे शेरशाह स भेल लड़ाई क बाद मोहम्मद शाह क दूनू पुत्र मारल गेलाह। तखन पुत्र वियोग मे कहलगांव मे शाह क मृत्यु भ गेल। हुनकर दूनू पुत्र क सेहो कब्र एतहि अछि। एहि कारण एकरा संरक्षित राखल गेल अछि। एकर संगहि शंभूगंज क गौरीपुर पहाड़ क पूर्ण सर्वे क प्रस्ताव अछि। शंभूगंज प्रखंड क गौरीपुर पहाड़ क शिलाखंड मे किछु एहन आकृति भेटल अछि, जेकरा संरक्षित करबाक आवश्यकता जताउज जा रहल अछि। एहि स्थल क सर्वे संग्रहालयाध्यक्ष अपने करताह। ओ अपन रिपोर्ट मे कला, संस्कृति युवा विभाग, पुरातत्व निदेशालय, पटना कए पूर्ण सर्वेक्षण क जरूरत बतेलथि अछि। अनुरोध कैल गेल अछि जे प्राकृतिक सौंदर्य क संग-संग पुरातात्विक आ ऐतिहासिक दृष्टिकोण स इ क्षेत्र महत्वपूर्ण अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments