नदी जोड परियोजना मे आगू बढल बिहार

पटना । नदी जोड परियोजना पर बिहार सरकार एक डेग आर आगू बढि गेल अछि। सरकार नदी कए जोडबाक नीटटा परियोजना पर काज कए रहल अछि इ समाद अहां सब कए पहिने भेट चुकल अछि। नव समाद इ अछि जे एहि तीनू परियोजना क विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन (डीपीआर) केंद्रीय जल आयोग कए पठा देल गेल अछि। स्वीकृति भेटलाक बाद राशि लेल योजना आयोग कए प्रस्ताव पठाउल जाएत। नदी जोड़ क तीनटा अन्य परियोजना क डीपीआर अंतिम चरण मे अछि। शेष क सर्वे लेल केंद्रीय जल विकास प्राधिकार ग्लोबल टेंडर केलक अछि। योजना क मूर्त रूप देबा पर पैघ हिस्‍सा मे सिंचाई क सुविधा उपलब्ध होएत आ सब साल बाढ़ स होइवाला व्यापक क्षति कए कम कैल जा सकत। जल संसाधन विभाग क अनुसार केंद्रीय जल आयोग क सहमति क बाद राशि क मसला पर विचार कैल जाएत। योजना क संभाव्यता पर आयोग क विशेषज्ञ छानबीन करि रहल छथि। एहि योजना मे बकसोती बराज स्कीम क तहत सकरी आ नाटा नदी कए सबस पहिने जोडल जाएत। अन्य योजना क तहत गंडक नदी पर अरेराज लग दोसर बैराज क निर्माण कैल जाएत। एकरा तिरहुत नहर प्रणाली स जोड़ल जाएत। एहि पर करीब 2000 करोड़ खर्च क अनुमान अछि। तहिना बागमती सिंचाई आ जल निकासी योजना क तहत नेपाल सीमा क समीप ढेंग मे बैराज आ नहर प्रणाली क निर्माण होएत। योजना पर 1300 करोड़ खर्च अनुमानित अछि। जल संसाधन विभाग द्वारा तीनू योजना कए उपयोगी मानल गेल अछि।
दोसर दिस मोकामा टाल स जल निकासी आ आर्थिक विकास क योजना मे जमीनदारी बांध क जीर्णोद्धार आ पईन निर्माण क योजना पूरा भ गेल अछि। एहन मे नालंदा आ नवादा स सटल स्थान पर वीयर निर्माण क योजना अछि। एहि स टाल क्षेत्र मे छोट-छोट नदी क बहाव रोकल जा सकत। एहि स ऊपरी क्षेत्र मे सिंचाई उपलब्ध भ सकत। नदी जोड़ क तीनटा आर योजना क डीपीआर तैयार करबाक जिम्मा केंद्रीय जल विकास प्राधिकार कए भेटल अछि जे अंतिम चरण मे अछि। एहि योजना मे बूढ़ी गंडक नोन वाया गंगा लिंक, कोसी (बागमती) गंगा लिंक आ कोसी-मेची लिंक शामिल अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments