दूध संग्रह मे गुजरात स आगू बढत बिहार क सुधा डेयरी

पटना। बिहार स्टेट मिल्क को-ऑपरेटिव फेडरेशन लिमिटेड अपन 14 डेयरी प्लांट क उत्पादन क्षमता मे डेढ़ गुना स पांच गुना तक बढ़ोतरी करए जा रहल अछि। चालू वित्तीय वर्ष क अंत तक सबटा प्लांट क कुल क्षमता 13.60 लाख लीटर प्रतिदिन स बढिकए 22 लाख लीटर कैल जा रहल अछि। जखन कि गुजरात क कोऑपरेटिव मिल्क फ़ेडरेशन (कंफ़ेड) एखन 14 लाख टन दूध उत्‍पादन करैत अछि। एहि लेल कैमूर स्‍िथत प्‍लांट क क्षमता मे सर्वाधिक बढोतरी क प्रस्‍ताव अछि। दरभंगा डेयरी क क्षमता मे सेहो उल्‍लेखनीय बढोतरी कैल जा रहल अछि। एहि ठाम एखन केवल 20 हजार लीटर अछि, जखन कि नव प्रस्‍तावक अनुसार एकर क्षमता मे तीन गुना स बेसी बढोतरी करि 75 हजार लीटर प्रतिदिन करबाक लक्ष्य निर्धारित कैल गेल अछि। एहि प्रकार स समस्तीपुर डेयरी क क्षमता 2.50 लाख स बढ़ाकए 5 लाख लीटर, मुजफ्फरपुर डेयरी क 1.50 लाख स बढ़ाकए 2.50 लाख लीटर, आरा क 1 लाख स बढ़ाकए 2 लाख लीटर करबाक लक्ष्य राखल गेल अछि। गया डेयरी क क्षमता 35 हजार लीटर स बढ़ाकए 85 हजार लीटर करबाक, कैमूर क 10 हजार लीटर स पांच गुना यानि 50 हजार लीटर प्रतिदिन करबाक क लक्ष्य निर्धारित कैल गेल अछि। कॉम्फेड रांची, जमशेदपुर आ बोकारो क इकाइ क सेहो क्षमता विस्तार करैत तीनू मिलाकए कुल 3 लाख लीटर प्रतिदिन क उत्पादन क्षमता कए बढ़ाकए 5.50 लाख लीटर करबाक लक्ष्य राखल गेल अछि।
ज्ञात हुए जे सुधा डेयरी क स्थापना 1983 मे को-ऑपरेटिव सोसाइटी क तहत कैल गेल छल। सुधा डेयरी दूध आओर एकर उत्पाद स आइ करोड मे व्यापार करैत अछि। पिछला 20 साल मे इ बिहार मे खामोशी स स्‍वेत क्रांति करि रहल अछि आ देश मे अगुआ बनि चुकल अछि। आइ जतए 14 लाख टन दूध उत्‍पादन करैवाला गुजरात क कोऑपरेटिव मिल्क फ़ेडरेशन (कंफ़ेड) आन राज्‍य स दूध मंगवा रहल अछि ओतहि 13.60 लाख टन दूध उत्‍पादक सुधा बिहार स बाहर दूध पठा रहल अछि।
बिहार मे सुधा डेयरी सफलता क जे कथा लिखलक अछि, ओ अन्य क्षेत्र लेल सेहो प्रेरणा बनि रहल अछि आ मिसाल सेहो। आइ सुधा डेयरी क बिहार आओर आसपास क राज्‍य क 84टा शहर मे 6,000 स बेसी आउटलेट अछि। सुधा डेयरी मे प्रतिदिन 13.60 लाख लीटर से बेसी दूध क संग्रहण होइत अछि। लगभग 5 लाख स बेसी दूध व्‍यापारी सुधा डेयरी स जुड़ल छथि।
सुधा डेयरी क प्रबंध निदेशक कहला जे सुधा डेयरी क दूटा नव प्लांट बनि गेल अछि। एहि मे 26 एकड़ मे पसरल बिहारशरीफ प्लांट प्रमुख अछि। ओ कहला जे यूनिसेफ क मदद स सुधा डेयरी गाम मे सस्‍ता शौचालय बनेबाक योजना चला रहल अछि। पशु चिकित्सक संजय कुमार झा कहैत छथि जे निश्चित तौर पर सुधा डेयरी बिहार मे श्वेत क्रांति क दिशा बदलि देलक अछि। बिहार मे कृषि आओर पशुपालन एक प्रमुख व्यवसाय भ गेल अछि, मुदा सटीक रणनीति क अभाव मे एहि ठाम एखनो दुग्ध उत्पादन क स्थिति बहुत नीक अछि अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments