दरभंगा घराना क प्रस्‍तुति स भावविभोर भेल दरबार हॉल

दरभंगा । दरभंगा घराना क गौरवशाली इतिहास आ उज्‍जवल भविष्‍य दूनू शनिदिन सांझ दरबार हॉल मे एक संग देखबा लेल भेटल। ध्रुपद धाम कार्यक्रम क दोसर दिन दरभंगा घराना क प्रस्‍तुति स दरबार हॉल भावविभोर भ गेल । पं अभय नारायण मल्लिक, हुनक भाई राम कुमार मल्लिक आ भातीज समित कुमार मल्लिक क एहन प्रस्‍तुति भेल जे पूरा वातावरण वासंती भ गेल ।
दूरदर्शन पटना क तत्वावधान मे विदुर मल्लिक संगीत अकादमी इलाहाबाद आ कासिदं संस्कृत विवि, दरभंगा क सहयोग स तीन दिनी ध्रुपद धाम कार्यक्रम क दोसर दिन क शुरुआत गया घराना क प्रसिद्ध पखावज वादक प. रविशंकर उपाध्‍याय क प्रस्‍तुति स भेल । गया घराना क अदभुत शैली स परिचय करबैत पं उपाध्‍याय पढंत, पठित आ लयकारी क कईटा प्रयोगात्‍मक रचना दर्शक क समक्ष प्रस्‍तुत केलथि । ऋषि उपाध्‍याय क रूप मे एहि ठाम गया घराना सुरक्षित भविष्‍य सेहो देखबा लेल भेटल । ओ अपन पिता संग झाला आ धुमकिट क प्रस्‍तुति स मन मोहि लेलथि ।
दोसर दिन क दोसर प्रस्‍तुति दरभंगा लेल खास रहल । मुंबई स आयल लखनऊ निवासी दरभंगा घराना क पं सुखदेव चतुर्वेदी पहिल बेर अपन गुरु पं विदुर मल्लिक क जन्‍मभूमि पर अपन प्रस्‍तुति द रहल छलाह । दरभंगा घराना मे मल्लिक, तिवारी, पाठक क बाद चतुर्वेदी चारिम उपनाम जुडला स घराना क विस्‍तार देखबा लेल भेटल । चतुर्वेदी पहिने राग कल्‍याण आ फेर राग वसंत स ध्रुपद क राजधानी कए मता देलथि । तानसेन क वंदिश जयमान रानी….जखन ओ शुरु केलथि त दरबार हॉल मे लागल प्रतिमा जेना झंकृत भ गेल । नवल वसंत नवल वृंदावन… गबैत काल प. विदुर मल्लिक कए हुनका पर आशिर्वाद साफ देखा रहल छल । प्रस्‍तुतिक उपरांत प. चतुर्वेदी भावविभोर भ कहला जे दरबार हॉल मे प्रस्‍तुति द हुनक जीवन धन्‍य भ गेल ।
दोसर दिनक तेसर प्रस्‍तुति दरभंगा स ध्रुपद क पलायन क भ्रम दूर केलक । प. रामकुमार मल्लिक अपन पुत्र समित मल्लिक संग मंचासीन भेला त पूरा दरबार हॉल थोपरी बजा अपन खुशी क प्रदर्शन केलक । दरभंगा मे शास्‍त्रीय संगीत क सूखैत रसधार कए बचेनिहार रामकुमार मल्लिक राग कलावती स दर्शक कए मंत्रमुग्‍ध क देलथि । बाहर झमाझम भ रहल वर्षा क बीच जखन पिता-पुत्र क युगल प्रस्‍तुति राग वसंत मे एहो खेलत होली…शुरू भेल त दरबार हॉल मे स्‍वर आ ताल क उडैत गुलाल मे सब नहा गेलाह ।
दोसर दिनक तेसर प्रस्‍तुति सेहो खास रहल । दरभंगा धराना मे सबस पैघ, मिथिला रत्‍न पं अभय नारायण मल्लिक (1938) अपन पुत्र संजय मल्लिक क संग मंचासीन छलाह । दरबार हॉल मे महाराज कामेश्‍वर सिंह क समझ राग दरबारी गाबि चुकल पं. रामचतुर मल्लिक क सबस प्रिय शिष्‍य प. अभय नारायण मल्लिक आइ सेहो पहिने राग दरबारी सुनेलथि । हुनक प्रस्‍तुति स लागल जेना समय पाछु लौट गेल। राग वसंत मे हुनक दोसर प्रस्‍तुति बाहर भ रहल वर्षा कए आओर तेज क देलक । दरभंगा घराना क खास काली स्‍तुति सुनाओ ओ दोसर दिनक कार्यक्रम कए समापन केलथि ।
शब्‍द, स्‍वर आ ताल क गवाह बनबा लेल दरबार हॉल मे दोसर दिन कोनो राजा उपस्थित नहि छल, राजा क कोनो वंशज सेहो नहि देखेलाह, पहिल दिन जेना जनप्रतिनिधि सेहो नहि छलाह, मुदा मौसम खराब रहलाक बावजूद आम लोक क उपस्थिति स बुझा रहल छल जे ध्रुपद क प्रेम दरभंगा क रग-रग मे बसल अछि । एहि कार्यक्रम क जीवंत प्रसारण डीडी भारती क माध्यम स पूरा विश्‍व मे कैल गेल. इ आयोजन 17 फरवरी कए संपन्न होएत।
maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna, दरभंगा, मिथिला, मिथिला समाचार, मैथिली समाचार, बिहार, मिथिला समाद, इ-समाद, इपेपर

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments