दक्षिण बिहार मे लागत हाइटेक रेडियो फ्रीक्वेंसी इलेक्ट्रानिक मीटर

पटना । एक नवंबर स बिहार राज्‍य बोर्ड क स्वरूप बदलि गेल। बोर्ड पांचटा अलग अलग कंपनी मे विभाजित भ गेल। नाम आ काज क त भूगोलक आधार पर बंटबारा भेल, मुदा पांचों कंपनी क मुख्यालय विद्युत भवन पटना मे रहल। इ पांचट कंपनी बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी, बिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी, बिहार स्टेट पावर जेनरेशन कंपनी, साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी आ नार्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी क नाम स काज करब शुरू क देलक अछि। पहिल दिन ओना लेखा-जोखा काज क शुरूआत भेल, मुदा उत्‍तर बिहार आ दक्षिण बिहार लेल अलग अलग योजना तैयार करबाक प्रक्रिया से हो शुरू भ गेल। बोर्ड मुख्यालय क कर्मी बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी क अधीन रहताह। उत्तर बिहार क तीनटा एरिया बोर्ड तिरहुत, कोसी आ मिथिला नार्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी आ पेसू, पटना सेंट्रल एरिया, मगध आ भागलपुर एरिया बोर्ड साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी क अधीन रहत। वर्तमान हालात मे इ सोचल जा सकैत अछि जे उत्‍तर बिहार आ दक्षिण बिहार नाम स भेल इ बंटबारा केतबा खतरनाक साबित होएत। विभाजन स साफ अछि जे दक्षिण बिहार क आमदनी उत्‍तर बिहार स कहीं बेसी होएत, आ ओहि आधार पर खर्च सेहो होएत। जखन कि राजधानी आ औद्योगिक क्षेत्र नहि रहबाक स उत्‍तर बिहार क कंपनी धन जुटेबा मे हरदम असमर्थ रहत।
दोसर गप जे जखने दक्षिण बिहार लेल अलग योजना बनत त साफ अछि जे राजधानी रहबाक कारण ओकरा विशेष फायदा भेटत, जखन कि उत्‍तर बिहार लेल कोनो एहन योजना दक्षिण क योजना क बाद सामने आउत। जेकर प्रमाण बोर्डक विभाजनक पहिल दिन देखबा लेल भेट गेल। साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी राजधानी अपन दू लाख उपभोक्ता क घर मे हाइटेक रेडियो फ्रीक्वेंसी इलेक्ट्रानिक मीटर लगेबाक फैसला लेलक अछि। उपभोक्ता एहि मीटर क संग बिजली चोरी करबाक गप त दूर ओहिमे छेड़छाड तक नहि क सकैत छथि। छेड़छाड़ करबा पर मीटर ओकरा अपन मेमोरी मे दर्ज क लेत।
मीटर रीडर सेहो उपभोक्ता क घर मे मीटर क रीडिंग लेबा लेल आब नहि जाएत। आवास क बाहर स मीटर रीडिंग ल लेत। एहि मीटर क रीडिंग 30 मीटर दूर स लेल जा सकैत अछि। इ मीटर पहिने राजधानी क 3.60 लाख विद्युत उपभोक्ता मे स दू लाख उपभोक्‍ता क घर मे लगाउल जाएत। बोर्ड अभियंता क कहब अछि जे हाइटेक रेडियो फ्रीक्वेंसी मीटर अगिला साल लागब शुरू भ जाएत। बिजली बोर्ड क आंकडा क अनुसार राजधानी क 24 हजार उपभोक्ता क घर मे मीटर बंद पडल अछि। ओना 31 जनवरी तक ओकरा बदलबाक लक्ष्य अछि।
एहि संबंध मे साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड क पटना विद्युत आपूर्ति प्रतिष्ठान (पेसू) महाप्रबंधक विजय कुमार क कहब अछि जे बिजली चोरी पर नियंत्रण करबा लेल हाइटेक रेडियो फ्रीक्वेंसी मीटर काफी सार्थक होएत। मीटर रीडिंग सेहो आसान भ जाएत। ऊर्जा मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव क कहब अछि जे सबटा कंपनी अपन अपन सामर्थ स काज करत। सबटा कंपनी कए प्रोफेशनल बनाउल जा रहल अछि। ऊर्जा मंत्री दावा केलथि जे अगिला वित्तीय वर्ष क शुरूआत तक सबटा केपनी क संचालन क भार विशेषज्ञ क जिम्मा मे होएत। राज्य क बिजली आपूर्ति व्यवस्था कए सुदृढ़ करबा लेल बोर्ड क पुनर्गठन कैल गेल अछि। कंपनी पहिल दिन स अपन अंतिम रूप मे नहि पाबि सकैत अछि। धीरे-धीरे अपन रूप मे आबि जाएत।

maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper, darbhanga, patna

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments