…त भेष बदलि नीतीश चढता सिटी बस पर

पटना| पटना मे सिटी बस विधिवत शुरू भ गेल। सोमदिन भोर मे यात्रीक भीड देखी निगम प्रशासन गदगद भ गेल। एहि सेवाक निरीक्षण समय समय पर मुख्‍यमंत्री करैत रहताह। एहि संबंध मे ओ साफ तौर पर कहला जे एहि सेवा क उपयोग ओ एकटा मुख्‍यमंत्री क रूप मे नहि सामान्‍य जनताक रूप मे करताह। कोनो सरकारी तामझाम क बिना ओ कहियो असगर बस पर सवार भ जेताह। ओ कहला जे शर्ट-पैंट मे जखन हम एहि बस पर चढ़ब त हमरा के पहचान पाउत? वेश बदलि कए हम यात्रा करब इ बस चालक आ खलासी तय मानि लथि। निगम क खस्‍ता हाल पर नीतीश साफ तौर पर कहला जे एहि लेल कियो आन नहि जिम्‍मेदार अछि, खुद निगमक लोक जिम्‍मेदार छथि। अपन अनुभव सुनबैत मुख्‍यमंत्री कहला जे अपन भट्ठा ओ खुद बैसेलक अछि। मुख्यमंत्री कहला-हमर आदत छल जे हम विधायक भेलाक बाद सेहो बस स यात्रा करैत रही। एक बेर बिहारशरीफ मे बैठक छल जे बस स विदा भ गेलहुं। बस पटना स बिहारशरीफ विदा भेल। बीच रास्‍ता मे मजिस्ट्रेट चेकिंग भ गेल। सब यात्री परेशान। बस कए जब्त कैल गेल । बस क कंडक्टर कनि चालक छल। कहलक बस पर विधायक छथि। पहिने त मजिस्ट्रेट साहब ओकरा कहला गेल जे विधायक बस स चलताह, फेर हम जखन अपन परिचय पत्र देखेलहुं त कहल गेल जे -पांच मिनट मे दोसर बस आबि रहल अछि ओहि पर अहां कए बैसा देल जाएत। पांच मिनट मे एकटा खाली बस आबि गेल जे राज ट्रांसपोर्ट छल। निजी बस खचाखच भरल आ सरकारी बस खाली। बुझल जा सकैत अछि जे कोनो डूबाउल गेलनिगम कए। मुख्यमंत्री कहला- निगम क कोना बस नहि चलैत अछि। बस दूरी नापल जाइत‍ अछि अगर बस चलए त घाटा नफा मे बदलि जाएत। निजी बस संचालक एकटा बस कीनलाक तीन साल बाद पांचटा बसक मालिक भ जाइत छथि आ निगम पांचटा बस कीनलाक तीन सालक बाद एकटा बस सडक पर चला रहल अछि। एकरे प्रबंधन कहैत छैक जे निगम मे कतहु नहि देखा रहल अछि।
बिहार मे परिवहन सुविधा कम हेबाक कारण मे सडक क संग संग रंगदारी सेहो रहल अछि। मुख्यमंत्री कहला जे मुख्‍यमंत्री बनलाक किछु घंटा बाद एकटा आटो वाला हुनका लग पहुंचल आ कहलक जे रंगदारी क कारण ओ अपन धंधा ठीक स नहि करि पाबि रहल अछि। ओ आटो चालक कए सामने अधिकारी कए बजेलथि आ कहला जे किछु टका संग मे ल एकर संग जा कए रेकी करि आउ। जतए जतए रंगदारी मांगल जाए ओतए टका देने जायब। हां नव नोट नहि राखब किया जे आटो ड्राइवर क लग मे टटका नोट नहि होइत अछि। अफसर गेलाह आ रंगदार क रेकी केलथि। अगिला दिन पूरा टीम पहुंचल आओर रंगदारक जमकए धुनाई भेल। एकर बाद स रंगदारी लगभग खत्‍म भ चुकल अछि।
पटना मे पब्लिक ट्रांसपोर्ट क जरूरत पर मुख्यमंत्री अपन पुरान अनुभव बतेलाह। बात पटना जंक्शन स शुरू भेल आ राजेंद्र नगर पहुंचल। मुख्यमंत्री कहला जे बहुत दिन हम स्टेशन स राजेंद्र नगर आटो मे गेल छी। एहि ठाम पब्लिक ट्रांसपोर्ट क हाल इ अछि जे आटो क ड्राइवर वाला सीट पर बैसब त सामान्य गप अछि। कई बेर हम बैसल छी, किछु ड्राइवर कए एतबो स संतोष नहि होइत छल ओ एकटा आओर सवारी कए हमरा बगल मे बैसा लैत छल। एहि प्रकार स कोनो मे तीन त कोनो मे चारि गोटे आगू क सीट पर बैस जाइत रही। हाल इ छल जे पान-पत्ती क लेल सेहो गाड़ी रुकैत छल बीच-बीच मे। मुदा आशा अछि इ सुविधाक चालू भेला स लोकक कष्‍ट किछु कम होएत।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments