ज्योति एखन बुझल नहि


एकटा कुशल प्रशासक, कर्मठ राजनीतिज्ञ कए आखरी बेर लाल सलाम । ज्योति बाबूक विदाई स खत्म भेल राजनीति क एकटा अध्याय। हरदम जीतल एहि योद्धाक निधन पर आंखि नम जुनि करू, किया कि ज्योति बाबूक ज्योति दुनिया देखैत रहल। अपन आंखि दान द ओ दू टा आनहर कए रोशनी द देलथि अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments