जीरो ग्रांट पर बनत रजौली- बख्तियारपुर सड़क

पटना । रजौली- बख्तियारपुर सड़क कए फोर लेन बनेबा लेल पथ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय एनओसी द देलक अछि। 817 करोड़ क लागत स बनि रहल एहि सड़क लेल टेंडर पहिने भ चुकल अछि। मधुकान कंस्ट्रक्शन इ सड़क बना रहल अछि। केंद्र क एनओसी नहि भेटबा स काज आगू नहि बढि रहल छल। 108 किमी लंबा इ सडक देश क संभवत: पहिल सड़क छी, जे जीरो ग्रांट पर बनत। अगिला छह मास मे जमीन पर काज शुरू भ जएत। इ सड़क, बिहार राज्य पथ विकास निगम क देखरेख मे बनत। इ’समाद पहिने बता चुकल अछि जे बख्तियारपुर-रजौली सड़क कए फोर लेन मे बदलबा लेल एकटा प्रस्ताव राज्य सरकार पथ परिवहन आ राजमार्ग मंत्रालय कए पठेने छल। मंत्रालय जखन एहि पर अपन सहमति नहि देलक, त फेर पथ निर्माण विभाग इ प्रस्ताव देलक जे ओ केवल अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) चाहैत अछि। राज्य सरकार एकरा अपन दम आ प्रयास स बना लेत। संयोग स पीपीपी मोड पर एहि सड़क क निर्माण लेल एनओसी प्राप्त भ गेल अछि। आमतौर पर पीपीपी मोड क परियोजना मे एक हिस्सा वाइबिलिटी गैप फंड (वीजीएफ) क होइत अछि। वीजीएफ क तहत 60 आ 40 क अनुपात मे राशि गलाउल जाइत अछि। साठ फीसदी राशि निर्माण कंपनी कए, 20 प्रतिशत राज्य सरकार कए आओर 20 प्रतिशत केंद्र सरकार कए लगैत अछि। बख्तियारपुर-रजौली सड़क क संग एहन नहि अछि। निर्माण कंपनी बिना कोनो वीजीएफ, यानी जीरो ग्रांट पर एहि परियोजना कए पूरा करत। छह मास फाइनेंसियल क्लोजर क अछि। छह मास क बाद कंपनी एहि सड़क कए फोर लेन मे बदलब शुरू करत। बिहार राज्य पथ विकास निगम क राष्ट्रीय उच्च पथ (एनएच) क इ दोसर परियोजना छी। एहि स पूर्व आरा-मोहनिया कए पीपीपी मोड मे बनाउल जा रहल अछि। आरा-मोहनिया 23 प्रतिशत वीजीएफ पर बनि रहल अछि। एहि मे 19 प्रतिशत केंद्र आ तीन प्रतिशत हिस्सा राज्य सरकार क लागि रहल अछि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments

2 टिप्पणी

  1. I just could not depart your website prior to recommending which i extremely enjoyed the standard info a person provide for these potential customers? Is gonna be back often to check on brand new posts

Comments are closed.