गोल मार्केट क वास्‍तविक स्‍वरूप आनब : कीर्ति

दरभंगा। बिहार क कनाट प्‍लेस ओवल मार्केट क नाम स प्रसिद्ध दरभंगा क गोल मार्केट कए ओकर वास्‍तविक स्‍वरूप प्रदान कैल जाएत। दरभंगा क सांसद कीर्ति झा आजाद कहला अछि जे ओ एहि संबंध मे प्रयास शुरू क देलथि अछि। श्री आजाद कहला जे हुनका एकर वास्‍तविक स्‍वरूपक संबंध में जानकारी नहि छल। हुनका हाल मे एहि संबंध मे बताउल गेल अछि जे कनाट प्‍लेस क तर्ज पर दरभंगा मे सेहो एकटा बाजार बनाउल गेल छल। आजाद कहला जे ओ एहि संदर्भ मे बिहार सरकार स गप करताह आ एकर अन्वेषण करौताह। ज्ञात हुए जे इ’समाद एहि मसला कए करीब दू साल स आम लोक तक पहुंचा रहल अछि। दरभंगाक गोल मार्केट क निर्माण 1934 मे आयल भूकंपक बाद बनल दरभंगा विकास प्राधिकरण करेने अछि। दरभंगा विकास प्राधिकरण प्राइज़ स्‍थापना तत्‍कालीन दरभंगा महाराज डा सर कामेश्‍वर सिंह केने छलाह। ओ दरभंगा विकास प्राधिकरण कए दरभंगा शहर बसेबाक लेल नौ करोड टका देने छलाह। एकर बाद दरभंगा विकास प्राधिकरण अंगरेज वास्‍तुविद स दरभंगाक मास्‍टर प्‍लान तैयार करेलक। दरभंगा ओहि गिनल चुनल शहर मे स एकटा अछि जेकर आजादी स पूर्व नक्‍शा बनेबा लेल हवाई सर्वेक्षण भेल अछि। गोल मार्केट क निर्माण भेलाक बाद योजना छल जे गुदरी क दुकान एहि मे स्‍थानांतरित कैल जाएत आ गुदरी क जगह पर एकटा व्‍यवस्थित बहुउददेश्‍यीय परिसर बनाउल जाएत। मुदा गुदरी क सबस पैघ व्‍यापारी शिवनंदन प्रसाद अग्रवाल गुदरी छोडबा लेल तैयार नहि भेलथि आ एहि बीच किछु लोक ओहि मे कालेज खोलि देलथि। कुल मिला कए आउटर सर्किल में त दुकान खुलल, मुदा इनर सर्किल मे कालेज खोलि देल गेल। एहि प्रकार स गोल मार्केट स्‍वरूप कए खत्‍म क देल गेल। पिछला दू साल पहिने इ’समाद एहि मसला कए उठेलक आ एहि पर चर्च शुरू भेल। दरभंगाक एकटा नीक आ व्‍यवस्थित बाजार कए खत्‍म करबाक विरोध धीरे धीरे तेज होइत गेल आ जनता क रुख कए देखैत सांसद सेहो एकरा लेल प्रयास करबाक आश्‍वासन देलथि अछि। सांसद आजाद कहला अछि जे ओ सरकार स एहि बाजार कए ओकर वास्‍तविक स्‍वरूप मे अनबा क संभावना पर गप करताह। ज्ञात हुए जे कालेज खोजबा लेल इ बाजार नगर निगम लीज पर देने अछि। श्री आजाद कहला जे भविष्य मे इ एकटा सुंदर बाजार आ पर्यटक कए आकर्षित करबा मे सक्षम स्थान बनत। एखन एहि बाजार मे भीतर स कालेज अछि त बाहर किछु दुकान आ मकान एकर स्‍वरूप कए झांपी देने अछि। ओ कहला जे आब एहि जगह कए सुंदर आ पहिने सन बनेबाक हर संभव प्रयास कैल जाएत। ओ कहला जे एहि लेल जरुरत पडल त केंन्द्रीय सरकार स सेहो मदद क गुहार कैल जाएत।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments