गरमा रहल अछि अशोक पेपर मिल क मामला

दरभंगा। दरभंगा जिलाक इकलौता औद्योगिक परिसर रामेश्‍वर नगर क माहौल गरम अछि। रामेश्‍वर नगर स्थित अशोक पेपर मिल लेल एक दिस जतए किसान आ कामगार यूनियन प्रबंध आ सरकार कए जनता कए गुमराह करबा लेल आंदोलनक धमकी द रहल अछि त दोसर दिस मिल प्रबंधन जिला प्रशासन स सुरक्षाक गुहार लगा रहल अछि। एहि संबंध मे जिलाधिकारी आर. लक्ष्मणन कहला अछि जे अशोक पेपर मिल प्रबंधन क शिकायत पर प्रशासन क नजरि अछि। मिल प्रबंधन स जुड़ल लोक सुरक्षा क गुहार लगा रहल छथि, जेकर अध्ययन कैल जा रहल अछि। किसान आ मजदूर लोकक मांग पर जिलाधिकारी कहला जे अपन गप कहबाक छूट सब कए अछि, मुदा कानून क दायरा मे कोनो गप हेबाक चाही। ओ कहला जे मजदूर क वाजिब गप सुनल जेबाक चाही। ओ कहला जे दूनू पक्षक शिकायत क जांच कैल जा रहल अछि आ दोषी पर समुचित कार्रवाई होएत। डीएम श्री लक्ष्मणन इ सेहो कहला जे मिल परिसर मे शांति बना रखबाक लेल स्थानीय थाना कए निर्देश द देल गेल अछि।
दोसर दिस रामेश्‍वर नगर मे किसान आ मजदूर लामबंद भ मिल प्रशासन क खिलाफ मोरचाबंदी क तैयारी शुरू क देलथि अछि। किसान सबहक कहब अछि जे अशोक पेपर मिल कए चालू करबाक प्रति सरकार गंभीर नहि अछि। किसान सब मिल क जमीन वापस करबाक मांग सेहो उठा रहल अछि। एहि मौका पर किसान सभा क जिला सचिव श्याम भारती प्रबंधक क आलोचना करैत कहला जे मिल कए चालू करबाक नाम पर करोड़ों टका क घोटाला भेल अछि। ओ पूरा मामलाक जांच सीबीआई स करेबाक मांग केलथि अछि। ओ कहला जे 23 मार्च कए पटना मे विधान सभा क समक्ष अशोक पेपर मिल्स चालू करेबा लेल धरना देल जाएत।
एहि बीच पूर्व विधायक आ कामगार यूनियन क अध्यक्ष उमाधर प्रसाद सिंह कहला अछि जे सर्वोच्च न्यायालय क आदेश क बावजूद 14 साल मे एनसीएफएल मिल कए नहि चलेलक। जखन-जखन मजदूर क हक क गप उठैत अछि त मिल प्रबंधन कोनो न कोनो आरोप लगाकए फरार भ जाइत अछि। ओ कहला जे एक बेर फेर मिल प्रबंधन एहने नाटक करबाक कोशिश क रहल अछि। ओ कहला जे एहि प्रबंधन कए कहियो मिल चलेबाक इच्‍छा नहि भेल। अपन आवास पर पत्रकार स गप करैत ओ कहला जे पहिने सेहो प्रबंधन वित्तीय संस्थान स 35 करोड़ टका मिल चालू करबाक नाम पर ल चुकल अछि आ टका लेलाक बाद फरार भ गेल। 15 सालक फरारी क बाद फेर प्रबंधन कोना आ किया पहुंचल, एकर जांच हेबाक चाही। ओ कहला जे मिल प्रबंधन क खिलाफ निगरानी स जांच चलि रहल अछि। भविष्य निधि संगठन बकाया क कारण मिल क परिसंपत्ति कए जब्त करबा लेल नोटिस लगा चुकल अछि। ओ कहला जे प्रबंधन बहुत सवालक उत्‍तर देबा स भागि रहल अछि। श्रम न्यायालय बेगूसराय कामगार क वेतन भुगतान करबाक आदेश देने छल, मुदा ओहि पर कोनो अमल नहि कैल गेल। श्री सिंह कहला जे 1996 मे सर्वोच्च न्यायालय द्वारा निर्धारित शर्त क सेहो अनुपालन मिल प्रबंधन द्वारा आइ धरि नहि कैल गेल। न्यायालय तीन वर्ष मे मिल क पुनर्वास क योजना क तहत 504 करोड़ टका निवेश क आदेश देने छल, मुदा निवेश त दूर, उलटे वित्तीय संस्थान स 35 करोड़ टका उठा प्रबंधन फरार भ गेल। ओ कहला जे आखिर मिल क पदाधिकारी कोन हैसियत स परिसर मे लौटलाह अछि एकर जांच हेबाक चाही। श्री सिंह आरोप लगेलाह अछि जे मिल प्रबंधन मिल मे लागल कई करोडक मशीन सब कए बेचबाक प्रयास क रहल अछि, किछु मशीन त बेचल जा चुकल अछि। जनता क परिसंपत्ति कए लूटबाक प्रयास भ रहल अछि आ जिला प्रशासन मूक दर्शक बनल बैसल अछि। ओ कहला जे दरभंगा क किसान आ मजदूर मिल प्रबंधनक मिल क मशीन बेचबाक कोशिश कए नाकामयाब क देत।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments