केंद्र-राज्य मे झगडा आ रामविलास शर्मा क जिद

1
29
esamaad maithili newspaper

भैरव लाल दास

पटना । आइ-काल्हि बिहार मे ‘पुल’ क बहुत चर्चा अछि । दीघा पुल, बिदुपुर पुल क बीच मे महात्‍मा गांधी सेतु क चर्चा सेहो खूब भ रहल अछि । गैमन इंडिया द्वारा एहि पुल कए बनाउल गेल छल आ 1982 मे निर्माण पूर्ण भेला स पूर्वहि एकर उद्घाटन भेल । एहि कारण स इ पुल अपन जन्‍म क समय स ल कए आइ धरि कहियो पूर्ण स्‍वस्‍थ नहि रहल । एकर भाग्‍य मे रोग जन्‍म स जुडल रहल आ जेना जेना दबाई भेल तेना तेना बीमारी बढैत गेल। आइ इ पुल मरनासन्‍न अछि। देखल जाय त एहि पुल कए जन्‍म क इतिहास सेहो काफी रोचक अछि। आम तौर पर लोक राज्‍य सभा आ विधान परिषद् क उपयोगिता पर हरदम प्रश्‍न चिह्न लगबैत रहैत छथि, मुदा अपन कालखंड मे एशिया क सबस पैघ पुलक प्रस्‍ताव बिहार विधान परिषद मे पहिल बेर आयल।  विधान परिषद् क एकटा सदस्‍य छलाह रामविलास शर्मा। धुन क एहन पक्‍का जे कहल नहि जाये। ओ एतिहासिक दिन छल जाहिया हुनकर माध्‍यम स पेश गैर सरकारी प्रस्‍ताव क बाद एहि पुल क चर्चा आरंभ भेल। विधानसभा एहि चर्चा स अनभिग्‍य छल। ओहि समय मे राज्‍य मे एतबा टका नहि छल आ केंद्र सरकार कए सेहो एहन पैघ काज करबा लेल टका क व्‍यवस्‍था देखए पडैत छल। राम विलास शर्मा पुल निर्माण क ‘समन्‍वयक’ बनाउल गेलाह आ ओ अपन भूमिका बखूबी निभा गेलाह। बिहार मे आधारभूत संरचना निर्माण क इतिहास क इ सबस रोचक पन्‍ना कहल जाइत अछि। श्री शर्मा कए जखन बिहार सरकार साफ तौर पर कहि देलक जे टका क अभाव मे ओ एहि महासेतुक निर्माण नहि करा सकैत अछि आ भारत सरकार सेहो अपन हाथ ठार क देलक अछि त श्री शर्मा तत्‍कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी क दरबार मे जेबा लेल रेल टिकट कटा लेलथि। ओ दिल्‍ली पहुंच इंदिरा दरबार मे जेबा लेल हुनकर पी.ए. स समय मंगलथि।  एहि स पूर्व सेहो ओ इंदिरा गांधी स एहि पुल पर वार्ता क चुकल छलाह, मुदा इ भेंट एतिहासिक छल। कारण छल शर्मा जी आहि दिन इंदिरा गांधी स भेंट करबा लेल पहुंचलाह जहिया देश मे ओ इमरजेंसी क घोषणा करबा लेल तैयार भ रहल छलीह। पूरा दरबार तनाव मे छल आ एहि बीच शर्माजी- मैडम स भेंट करबा लेल पहुंच गेलाह। दरबारी सब कए शर्मा जी क मसला सुनि जेना सांप सूंघ गेल छल। थोडे काल त एहि उहापोह मे बीतल जे के जायत मैडम स इ कहबा लेल? शर्माजी कए स्थिति क जानकारी देल गेल, मुदा  शर्माजी कए आपातकाल स कोन मतलब हुनका त गंगा पर पुल बेसी जरुरी बुझाइत छल। हुनका बिहार मे पुल चाहैत छल, बाकी स कोनो मतलब नहि। अंत मे अधिकारी हुनका मैडम तक जेबाक अनुमति द देलक। शर्माजी आपातकाल लगबा स ठीक पहिने इंदिरा क दरबार मे मसला ल पहुंच गेलाह आ हुनका स एकर बाधा दूर करबाक अनुरोध केलथि। इंदिरा गांधी सेहो श्री शर्मा एहि संकल्‍प स बहुत प्रभावित भेलीह। इंदिरा स भेंट क जखन ओ बाहर एलाह त हुनकर चेहरा देखि दरबारी सब भौंचक छल। हुनकर चेहरा खुशी स मुस्‍की मारि रहल छल। पूछला पर कहलथि जे मैडम  केवल टकाक प्रबंधन करबाक आश्‍वासन नहि देलथि अछि,बल्कि स्‍वयं वित्त सचिव कए फोन क टकाक व्‍यवस्‍था तत्‍काल करबा लेल कहि देलथि अछि। एहि भेंटक बाद पुल निर्माण मे राशि बाधा फेर कहियो उत्‍पन्‍न नहि भेल। पुल चालू भेल आ पैघ-पैघ नाम एकर निर्माण स जुडि गेल, मुदा एक व्‍यक्ति एकटा राज्‍य कए बहुत किछु द सकैत अछि, इ शर्माजी क गांधी सेतु प्रकरण स बुझल आ सीखल जा सकैत अछि। यदि व्‍यक्ति ठान लेलक, यदि व्‍यक्ति मे जुनून हो त समाज कए किछु देबा लेल नहि त ओकरा कुर्सी चाही आ नहि दौलत। दुख होइत अछि जे आइ जखन केन्‍द्र सरकार आ राज्‍य सरकार एहि पुल क पाया तक दुरुस्‍त नहि करवा पाबि रहल अछि, त एतबा पाया कए ठार करबाक जिद रखनिहार शर्मा जी सन व्‍यक्ति आइ कतहु ठार नहि छथि।

इ-समाद, इपेपर, दरभंगा, बिहार, मिथिला, मिथिला समाचार, मिथिला समाद, मैथिली समाचार, bhagalpur, bihar news, darbhanga, latest bihar news, latest maithili news, latest mithila news, maithili news, maithili newspaper, mithila news, patna, saharsa

Please Enter Your Facebook App ID. Required for FB Comments. Click here for FB Comments Settings page

1 COMMENT

  1. राम विलास शर्मा जी के जीवनी के विषय में विसत्रित जानकारी दीय.

Comments are closed.