आलापचारी क तरंग पर झुमल दरभंगा

0
9
esamaad maithili newspaper

दरभंगा। दरभंगा एक बेर फेर अपन पुरान रूप मे जेबाक प्रयास क रहल अछि। शास्त्रीय संगीत क प्रेमी रहल दरभंगा क लोग एक बेर फेर लयकारी आ आलापचारी क तरंग पर झुमैत देखा रहल छथि। स्पिक मैके एक बेर फेर दरभंगा मे मंच सजेलक जाहि पर कर्नाटक क धारवाड़ स आयल किराना घराना क पं. कैवल्य कुमार गुराव राग-रागिनी स दरभंगावासी कए पुरान दिन मे लौटबा लेल मजबूर क देलथि। महात्मा गांधी शिक्षण संस्थान आ महाराजाधिराज लक्ष्‍मेश्‍वर सिंह मेमोरियल कॉलेज मे लोक आरोह आ अवरोह मे गोता लगबैत रहल। राग तोड़ी मे ‘अब मोरी नैया पार करो’ आ राग नंद मे ‘धन-धन भाग नंद को’ आओर भजन ‘जित देखूं उत राम ही राम’ क गायन सब कए मंत्र मुग्ध क देलक। रमेश्वरलता संस्कृत कॉलेज मे राग श्याम कल्याण मे अद्धा ताल मे निबद्ध विलंबित क बोल ‘सावन की शाम सुखदाई’ आ एक ताल मे द्रुत क बोल ‘ऐसो घूमि-घूमि जावत हों, हमसे रूठ सौतन घर जावत हो बालम तुम’ क गायन स वातावरण बदलि गेल। एहि दौरान आलपचारी आ लयकारी पेश क सब कए भाव विभोर क देल गेल। एहि ठाम ‘खेलत शिव शंकर सुर संग’ क गायन क संग कबीर भजन ‘मन लागो मेरा यार फकीरी में’ सेहो पेश कैल गेल। हुनकर संग हारमोनियम पर सुधांशु कुलकर्णी आ तबला पर केशव जोशी संगत करैत छलाह।
maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper

Please Enter Your Facebook App ID. Required for FB Comments. Click here for FB Comments Settings page