सामा खेलए गेलहुं भाई आंगन हे

नई दिल्‍ली। सामा खेलए गेलहुं भाई आंगन हे, आहे भौजौ लेलथि लुलुहाई छोडू ननदो आंगन हे—सामाक गीत जेना एकर हकीकत बता रहल अछि। एक दिस बाजारवाद क कारण मिथिला मे सामा-चकेबा पर्व बिलायल जा रहल अछि, तो दोसर दिस रांची आ राजधानी दिल्‍ली मे एकर सामुहिक आयोजन भ रहल अछि। भाई-बहिन क स्नेह क प्रतीक एहि लोकपर्व कए सामूहिक आयोजान सबस पहिने रांची मे शुरू भेल। पिछला दू साल स राजधानी मे सेहो एकर आयोजन भ रहल अछि। एहि साल सेहो कार्तिक पूर्णिमा क दिन राजधानी क त्रिवेणी कला संगम मे “माटी” आ “यूथ ऑफ मिथिला” एकर सार्वजनिक आयोजन केलक। जाहि मे पैघ संख्‍या मे मैथिल जनसमुदाय शामिल भेल। सच पूछल जाए त दिल्‍लीक त्रिवेणी परिसर मे सामा-चकेवा क पौराणिक गीत क बोल मिथिलाक क परंपरा कए जीवंत बना देने छल। मैथिल बहिन एक दोसरक आंचर मे पानक पात पर राखल शिरि कए एक दोसर स बदलि भाई क दीर्घायु हेबाक कामना केलथि। ”मोर भैया जीबो कि तोर भैया जीबो” क जप स पूरा वातावरण सामामय भ गेल छल। चुगलाक मूंछ मे आगि लबा सामा खेलक पूर्णाहूति देल गेल। एहि मौका पर एकटा छोटसन संस्कृतिक कार्यक्रम सेहो भेल। कार्यक्रमक दौरान अपन संबोधन मे “यूथ ऑफ मिथिला” क अध्यक्ष भवेश नंदन झा कहलथि जे अपन संस्कृतिक धरोहर कए संरक्षित करबा आ ओकरा आधुनिकता स जोडि कए आगू ल जेबा क दायित्व मिथिलाक युवाक कांध पर अछि। एहि मौका पर वरिष्ठ पत्रकार अनुरंजन झा कहला जे संस्कृतक धरोहर कए बचेबा लेल मीडिया क योगदान अहम अछि। वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी डा. संजीव मिश्रा, प्रभाष कुमार दास आ डा.के आर शर्मा, माटी क सचिव मधुरेंद्र कुमार, यूथ ऑफ मिथिला क उपाध्यक्ष कमलेश किशोर झा सहित अमिताभ भूषण, मैलोरंग क प्रकाश झा, कुंदन कात्यायन, मंजूषा दास, भारती दयाल, मुकेश झा ,जयराम विप्लव, दीनबंधु सिंह, विशाल तिवारी, गौतम कृष्ण, आमिर खुसरो, संतोष कुमार आदि सेहो अपन विचार रखलथि।

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments