अपनो लेल अंजान भेलाह बीपी मंडल

मधेपुरा/पटना । कहियो राजनीतिक गलियारा मे चर्चा क विषय बनल मंडल आयोग क अध्यक्ष आइ देश मे त सहुजे अपन घर मे सेहो हेरा गेला अछि। हालत त इ अछि जे मधेपुरा मे तत्कालीन अनुमंडल पदाधिकारी रामप्रकाश यादव द्वारा बीपी मंडल चौक पर लगाउल गेल हुनक प्रतिमा आ बीपी क पैतृक गांव मुरहो मे स्थित हुनक समाधि स्थल साल मे केवल एक बेर साफ कैल जाइत अछि। स्थिति इ अछि जे स्व. मंडल क जयंती पर चंद 25 अगस्त कए हुनका समाधि पर जेबा लेल कोनो पिछडल समाजक नेता कए समय नहि भेटल। किछु स्‍थानीय लोक जरूर जमा हेताह आ गला फाडि कए अपन गप कहताह, मुदा फेर एक साल तक एकरा देखनिहार कियो नहि। आइ बीपी क कारण सत्‍ताक मलाई खा रहल नेता होइथि बा आरक्षणक लाभ लेनिहार पिछडल समाजक लोक किनको बीपी क स्‍मरण नहि। हुनक आदर्श स संबंधित चर्चा करबाक ककरो लग समय नहि। हुनकर कृतित्व स संबंधित कोनो इतिहास कए सार्वजनिक रूप स संग्रहित करबाक कोनो योजना नहि, जाहि स नवतुरिया हुनका अपन आदर्श बना सकए। सवाल अछि बीपी मंडल सन नेता कए बिसरि पिछडा क विकास क कल्‍पना कोना कैल जा सकैत अछि। या फेर इ सोचबाक चाही जे कांशीराम जेना ओ अपन कोनो उत्‍तराधिकारी तय नहि क सकलाह, जेकर इ परिणाम छी। कारण जे हुए मुदा इ कटू सत्‍य छी जे बीपी मंडल क उपेक्षा कोनो अर्थ स उचित नहि। हुनका जे सम्‍मान भेटबाक छल से नहि भेट सकल। दुख एहि गपक अछि जे हुनकर उपेक्षा ओ क रहल अछि जेकरा लेल ओ बहुत किछु केलथि। ज्ञात हुए जे 90 क दशक मे बिहार क पूर्व मुख्यमंत्री आ पिछड़ा वर्ग आयोग क अध्यक्षता मे बनल आयोग क सिफारिश कए तत्कालीन प्रधानमंत्री वीपी सिंह द्वारा लागू कैल गेल, जाहि मे पिछडल कए 27 प्रतिशत आरक्षण देबाक प्रावधान छल। एकर लागू भेलाक बाद भारत मे राजनीतिक भूचाल आबि गेल। देश क बच्‍चा बच्‍चा मंडल आयोग स परिचित भ गेल, मुदा बीपी मंडल देश लेल अन्चिनहार बनल रहलाह, मुदा बिहार आ खास क मिथिला अपन एहि पुत्र पर गर्व करैत रहल। लाख उपेक्षाक बावजूद मिथिला आइ इ मानि रहल अछि जे स्व.बीपी मंडल क कृति भारत क इतिहास क एहन सुनहरा अध्याय बनि चुकल अछि जेकर सुगंध युग-युग तक समाज क पिछडल समूह कए सुगंधित करैत रहत।

maithili news, mithila news, bihar news, latest bihar news, latest mithila news, latest maithili news, maithili newspaper

नीक वा अधलाह - ज़रूर कहू जे मोन होय

comments